अनमोल वचन

अनमोल वचन

अच्छा इन्सान और सफल इन्सान दोनो अलग-अलग होते हैं। जरूरी नहीं कि सफल इन्सान अच्छा इन्सान भी हो। दोनों में उपयोगी कौन है? इसकी तुलनात्मक विवेचना से एक तथ्य सामने आता है कि सफलता से अधिक उपयोगी अच्छाई है। ऐसा इसलिए क्योंकि सबसे विशेष बात यह है कि सफल व्यक्ति की तुलना में एक अच्छे इन्सान की उपलब्धि लम्बे समय तक स्मृति में बनी रहती है। उसके किये गये काम का क्षेत्र भी व्यक्तिगत स्तर से ऊपर सम्पूर्ण समाज के हित में होता है। एक सफल व्यक्ति अपनी उपलब्धियों के कारण पहचाना जाता है। यद्यपि ये उपलब्धियां मूलभूत रूप से उसी को लाभ पहुंचाने वाली होती हैं, परन्तु एक अच्छे इन्सान के कर्म उसके निजी स्वार्थों से ऊपर होते हैं। आज के युग में अच्छाई से अधिक महत्व सफलता को दिया जाता है। नैतिकता और मूल्यों की विरासत धुंधली पडने लगी हैं, फिर भी अच्छाई सदा ऊपर ही रहेगी। सफल व्यक्तियों की उपलब्धियां अल्पकालिक होती हैं, उसमें बिरले ही होते हैं, जिन्हें याद किया जाता है, किन्तु श्रेष्ठ इन्सान देवत्व को प्राप्त करने की क्षमता रखते हैं। उनके गुणों को पीढियों तक श्रद्धा के साथ स्मरण किया जाता है।

Share it
Share it
Share it
Top