फिल्म साक्षात्कार: जोखिमपूर्ण किरदार निभाना चाहती हूं-जाह्नवी कपूर

फिल्म साक्षात्कार: जोखिमपूर्ण किरदार निभाना चाहती हूं-जाह्नवी कपूर

श्रीदेवी और बोनी कपूर की बड़ी बेटी, जाह्नवी कपूर ने करण जौहर के धर्मा प्रोडक्शन द्वारा निर्मित, शशांक खेतान द्वारा निर्देशित 'धड़क' से बॉलीवुड में डेब्यू किया लेकिन एक सेलेब्रिटीज की बेटी होने के कारण अपने डेब्यू से पहले ही जाह्नवी स्टार बन चुकी थी।

एक स्टार किड होने के नाते जाह्नवी पर कामयाबी के लिए जबर्दस्त दबाव था। उनके साथ लोगों की अपेक्षाएं बहुत अधिक थीं लेकिन जाह्नवी ने तमाम दबावों के बावजूद उन अपेक्षाओं पर खुद को साबित कर दिखाया।

'धड़क' ने बॉक्स ऑफिस पर पहले दिन 8.71 करोड़ का बिजनेस करते हुए बॉलीवुड में किसी न्यूकमर की सबसे बड़ी ओपनिंग फिल्म का कीर्तिमान अपने नाम किया । इसके पहले यह कीर्तिमान 8 करोड़ रूपये की कमाई के साथ करण जौहर की ही 'स्टूडेंट ऑफ द ईयर' के नाम था।

जाह्नवी के भाई अर्जुन कपूर ने दूसरी मां के रूप में श्रीदेवी को कभी पसंद नहीं किया लेकिन वह जाह्नवी को लेकर शुरू से बेहद प्रोटेक्टिव रहे हैं। सुशील कुमार शिंदे के पोते शिखर पहाडिय़ा जाह्नवी के कथित बॉय फ्रेंड हैं। पिछले दिनों ईशा अंबानी की एंगेजमेंट पार्टी में एक साथ नजर आने के बाद जब जाह्नवी को ट्रोल किया जा रहा था, अर्जुन कपूर खुलकर जाह्नवी के पक्ष में आ गए।

'धड़क' के बाद करण जौहर की अगली फिल्म 'तख्त' में जाह्नवी कपूर, रणवीर सिंह, करीना कपूर, आलिया भट्ट, अनिल कपूर और विक्की कौशल के साथ महत्त्वपूर्ण किरदार निभा रही हैं। कहा जाता है कि करण जौहर, शाहरूख के बेटे आर्यन खान के अपोजिट जाह्नवी को लेकर एक फिल्म शुरू करना चाहते थे लेकिन शाहरूख ने, अपनी दिलचस्पी नहीं दिखाई।

करण जौहर, शशांक खेतान के निर्देशन में पीरियड ड्रामा बेस्ड 'रणभूमि' में वरूण के अपोजिट जाह्नवी को लेने के इच्छुक थे लेकिन फिर पता नहीं क्या हुआ कि परिणीति चोपड़ा ने जाह्नवी को रिप्लेस कर दिया।

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

अब खबर आ रही है कि करण जौहर जाह्नवी के साथ इंडियन एयर फोर्स की पहली महिला चॉपर पॉयलट गुंजन सक्सेना की बायोपिक बनाने जा रहे हैं। गुंजन सक्सेना वही युवती हैं जिसने 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान अपनी वीरता का परिचय देते हुए कई सैनिकों की जान बचाई। फिल्म का टायटल अभी तय नहीं हुआ है।

'धड़क' में जिस तरह जाह्नवी और ईशान की ऑन स्क्रीन कैमिस्ट्री ने दर्शकों को लुभाया, उसे देखते हुए करण को लगता है कि इन दोनों की कैमिस्ट्री को, ऑडियंस बार बार देखना चाहेगी। हो सकता है कि आने वाले वक्त में वह दोनों के साथ कोई फिल्म शुरू करें लेकिन उसके पहले खबर है कि निर्देशक आर.बाल्की की फिल्म में ईशान खट्टर और जाह्नवी नजर आ सकते हैं। प्रस्तुत हैं जाह्नवी से की गई बातचीत के मुख्य अंश:

जब आपके डैडी और बहन खुशी, ने पहली बार 'धड़क' देखी, उनकी किस तरह की प्रतिक्रिया थी ?

वो फिल्म में मेरे काम से जितने खुश नहीं थे, उससे कहीं ज्यादा फिल्म को मिल रही लोगों की प्रतिक्रिया से खुश थे। जब डैडी को पता चला कि फिल्म हिट हो चुकी है, तब उनकी आंखों में खुशी के आंसू थे। मैं इसे मम्मी का आशीर्वाद मानती हूं कि फिल्म को इतनी सकारात्मक प्रतिक्रिया मिल सकी।

क्या कभी आपको ऐसा महसूस हुआ कि एक फिल्मी परिवार से ताल्लुक होने के कारण आपको एक्ट्रेस बनने का मौका आसानी के साथ मिल गया ?

निश्चित ही इस पहले अवसर के लिए मैं प्रोडक्शन हाउस, क्रिटिक्स और दर्शक सभी की आभारी हूं लेकिन मुझे अपने उत्तरदायित्वों का अहसास शुरू से रहा है, इसलिए मैंने उस मौके का कभी भी अनुचित लाभ उठाने की कोशिश नहीं की बल्कि कठिन परिश्रम करके खुद को साबित किया है।

आने वाले वक्त में सारा अली खान अनन्या पांडे और तारा सुतारिया जैसी कई एक्ट्रेस बॉलीवुड में डेब्यू करने जा रही हैं। क्या उन्हें लेकर, मन में थोड़ी बहुत असुरक्षा होती है ?

किसी के साथ कंपीटीशन करना मुझे कभी भी अच्छा नहीं लगता। मैं इसे एक बहुत बुरी चीज मानती हूं। हम एक दूसरे की सफलता और खुशियों में बराबर शरीक रहकर एंजॉय भी तो कर सकते हैं। यह देखना अच्छा लगता है कि इंडस्ट्री में लगातार न्यू टेलेंट आते रहे हैं। अगर आप अच्छा काम कर रहे हैं तो दूसरे का अच्छा काम भी आपको एक्सेप्ट करना चाहिए। मैं बतौर ऑडियंस सारा, अनन्या और तारा की फिल्में देखने के लिए बेहद एक्साइटेड हूं। मैं स्क्रीन पर उनका मैजिक देखना चाहती हूं।

लेकिन जब रोहित शेट्टी की 'सिंबा' आपके हाथ से निकल कर सारा अली खान की झोली में चली गई, तब आपको अफसोस तो अवश्य हुआ होगा ?

मुझे लगता है कि रोहित शेट्टी हों या करण सर, कोई भी क्यों न हो, यह उनकी अपनी चॉयस है कि वह अपनी फिल्म के लिए किसे कास्ट करें। मुझे लगता है कि रणवीर सिंह के अपोजिट सारा अली खान के रूप में उनकी चॉयस परफेक्ट है और ऑडियंस को यह जोड़ी ज्यादा फ्रेश लगेगी।

जब आपको आपकी मम्मी श्रीदेवी की तरह एक खूबसूरत एक्ट्रेस कहा जाता है, तब सुनकर कैसा महसूस होता है ?

मम्मी की एक अलग इमेज थी। उनके पास बेमिसाल थी। एक एक्ट्रेस के तौर पर उनके पास गजब की रेंज थी। मुझे लगता है कि उनके पास, इनके अलावा और भी कई खूबियां थीं, इसलिए उनका दर्जा कोई नहीं ले सकता है। कम से कम मैं तो उनकी जगह कभी नहीं ले सकती।

'धड़क' के बाद जब करण जौहर के प्रोडक्शन में 'तख्त' में दोबारा काम करने का अवसर मिला, तब कैसा महसूस हुआ ?

'तख्त' में काम करने का अवसर मिलने की बात सुनकर मैं बेहद अचंभित हुई थी। एक लंबे वक्त तक तो मुझे यकीन ही नहीं हुआ। मैं खुद को खुशकिस्मत मानती हूं कि एक बार फिर उनकी फिल्म में मुझे काम करने का अवसर मिल रहा है।

'धड़क' के दौरान शशांक खेतान को आप पापा कहकर सबंोधित करती थीं ?

जी बिलकुल क्योंकि अपनी जिंदगी में मैं उन्हें एक आशीर्वाद की तरह देखती हूं। मैं खुशकिस्मत हूं जो मुझे अपनी पहली फिल्म में उन जैसा निर्देशक मिला। वह जितने अच्छे निर्देशक हैं, उससे कहीं बढ़कर, एक उम्दा इंसान हैं। उनके पास से कोई भी लगातार सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त कर सकता है। उनसे मैंने बहुत कुछ सीखा। उन्होंने न केवल मुझे प्रेरणा दी बल्कि लगातार मेरा सपोर्ट सिस्टम भी बने रहे।

ईशान खट्टर के साथ काम करने का आपका एक्सपीरियेंस किस तरह का रहा ?

सैट पर ईशान, गजब की एनर्जी लेकर आते थे। उनके साथ काम करना बहुत ही कमाल का रहा। काम के प्रति उनके रवैय्ये ने मुझे काफी प्रेरित किया। सिल्वर स्क्रीन पर हमारी कैमिस्ट्री को लोगों ने काफी पसंद किया है। उम्मीद करती हूं कि आगे भी हम बहुत सारी फिल्में एक साथ करेंगे।

मम्मी के गुजर जाने के बाद अब आपकी सबसे बड़ी ताकत क्या है ?

पहले भी मेरी मां मेरी सबसे बड़ी ताकत थीं और आज भी वही मेरी शक्ति हैं। अभी कुछ बदला नहीं है। मैं जो कुछ करती हूं उन्हीं का नाम लेकर करती हूं लेकिन उस मुश्किल दौर में मेरे काम ने मुझे ताकत दी। मेरे परिवार के सभी सदस्य मेरी ताकत हैं।

-सुभाष शिरढोनकर

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top