रहस्य-रोमांच: हत्यारे फूल

रहस्य-रोमांच: हत्यारे फूल

हिलमैन बड़ा ही सम्पन्न और सफल व्यापारी था। लंदन में उसकी एडवर्टाइजिंग कम्पनी का बड़ा नाम था। बड़ी-बड़ी कम्पनियों का बिजनेस हिलमैन ही करता था। उसकी उम्र यही करीब 53 वर्ष होगी। सुन्दर, सजीले, हृष्ट-पुष्ट हिलमैन के पहनावे पर तो सब जान छिड़कते। खूबसूरत शर्ट, उस पर टाई और रंग से मेल खाती हुई पैंट। बाल सफेद होने को आए थे मगर वह अब भी नौजवान लगता था। बड़ा ही सुशील नर्म स्वभाव।
वह विवाहित नहीं था इसलिए बूढ़ी जवान हर उम्र की औरतें उस पर जान छिड़कती थीं। इस कदर धन, सम्पत्ति, सफलता और सुन्दरता के बावजूद हिलमैन बड़ा ही एकांतप्रिय व्यक्ति था। किसी से अधिक मिलना-जुलना नहीं, सबसे अलग-अलग रहना उसके स्वभाव में शामिल था। वह न तो किसी पार्टी में जाता था और न क्लब में, न मित्रों की महफिलों में शामिल होता था। वह अपनी शामें शांतिपूर्वक घर पर ही गुजारता था। घर क्या था, एक महल था जहां वह शतरंज और ऐसे ही दूसरे खेल खेलता। अपने बंगले के लान में कसरत करता।
लेकिन हिलमैन के चरित्र का एक और रूप भी था। अब से पहले कोई नहीं जान पाया था कि हिलमैन औरतों का रसिया था। जब तक कोई औरत उसका सर न सहलाए, उसे नींद नहीं आती थी। शहर में ऐसी औरतों की कमी नहीं थी जो हिलमैन के एक इशारे पर उसकी सेवा के लिए तैयार हो जाती थी। हिलमैन ने इस बात का अधिक से अधिक लाभ उठाया और शहर की सब सुंदर युवतियों को हिलमैन ने अपनी सेवा का अवसर दिया। वर्ष का उसका सबसे अच्छा समय वह होता था जब वह निकटवर्ती पर्यटक स्थल में जाता और वहाँ महीना बड़े आराम से गुजारता।
इस वर्ष जब हिलमैन प्रमुख स्थल 'वार्म रोड' पहुंचा तो आलीशान होटल स्काइ्रलाई में अपने विशेष कमरे में ठहरा। होटल की लाबी में उसकी भेंट एक सुन्दर युवती बारबरा से हो गयी। उसके यौवन और रूप को देखकर हिलमैन ठगा सा खड़ा रह गया। पता चला कि वह दो-चार दिन के लिए ही 'वार्म रोड' सैर-सपाटे के लिए आई थी।
बारबरा की कंटीली मुस्कान और नशीले हुस्नो शवाब ने इतना असर किया कि वह सारी रात सो न सका। वे दोनों एक ही होटल में रहते हुए भी कितने दूर थे लेकिन दूरी शीघ्र ही खत्म हो गयी और बारबरा हिलमैन के साथ रहने लगी। सारा दिन वह कमरे में ही रहते। खाना भी कमरे में ही खाते। दिन में एक बार शाम को ही बाहर निकलते।
उस घातक रात को बारबरा जब कमरे में लौटी तो उसने रंग-बिरंगे कोमल फूलों का हार पहन रखा था। बारबरा को इस प्रकार गले में हार पहने बहुतों ने देखा था। यह कोई नई बात नहीं थी। ऐसा हार पहन कर वास्तव में वह बहुत खूबसूरत लगती थी पर जब वह अगले दिन बाहर निकली तो उसके गले में हार नहीं था।
बारबरा कहां चली गयी, यह कोई आज तक न जान सका। हिलमैन ने न तो खाना मांगा ओर न ही कमरे से बाहर आया। पूरे एक सप्ताह बाद जब होटल के अधिकारी कमरे में दाखिल हुए तो उन्होंने देखा हिलमैन अपने बिस्तर पर मरा पड़ा था। कीड़े-मकौड़े उसके चेहरे पर रेंग रहे थे। मैनेजर यह सब सोच भी न पाया कि यह आखिर हुआ कैसे।
घटना यूं थी। उन फूलों में विषैले कीड़े छिपे हुए थे। अगर किसी व्यक्ति को मारना हो तो फूलों पर लौंग का तेल और पीपरमेंट छिड़क देने के बाद हार को उस व्यक्ति के गले में डाल दीजिए जिसे मारना हो। फूलों के अंदर के जहरीले कीड़े लौंग के तेल और पीपरमेंट की तेज सुगंध से घबराकर बाहर आ जाते हैं और आदमी को काट खाते हैं।
हिलमैन के साथ भी ऐसा ही हुआ। उसके सारे शरीर पर कीड़े रेंग रहे थे। उनका थूक और मल इतना जहरीला था कि उसके काटे से आदमी एक क्षण में जीवित नहीं रह पाता था। न कोई पीड़ा न कोई परेशानी, तुरंत मृत्यु। इस तरह हिलमैन अपनी सारी जायदाद और सम्पत्ति किसी के भी नाम छोड़ कर नहीं गया। कथित हत्यारी बारबरा का आज तक नहीं पता चला।
यूं कहिए कि सुंदर नारी हिलमैन की बहुत बड़ी दुर्बलता थी। सुंदर नारी ने ही हिलमैन की जान ले ली। साथ में ले गयी उसकी चार कैरेट की हीरों की अंगूठी जिसका मूल्य एक करोड़ रूपये से अधिक बताया जाता है।
- राजेन्द्र कश्मीरपुरी

Share it
Share it
Share it
Top