छात्रा की संदिग्ध हालत में मौत का मामला: बेटी के इंसाफ के लिए आखिरी सांस तक लडूंगा..अमित शाह से मिलकर लिखित शिकायत दी

छात्रा की संदिग्ध हालत में मौत का मामला: बेटी के इंसाफ के लिए आखिरी सांस तक लडूंगा..अमित शाह से मिलकर लिखित शिकायत दी


नई दिल्ली। उत्तर पश्चिमी जिले के महेन्द्रा पार्क इलाके में गत 27 अप्रैल की सुबह साढ़े 11 बजे महेन्द्रा पार्क स्थित सर्वोदय कन्या विद्यालय की छात्रा की तीसरी मंजिल से नीचे गिरकर संदिग्ध हालत में मौत हो गई थी। पुलिस ने जहां इसे एक हादसा बताया था। छात्रा के परिवार वालों ने इसे हत्या बताया। उन्होंने पुलिस, स्कूल प्रशासन और एजुकेशन विभाग पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। बेटी के इंसाफ के लिए परिवार दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मिलकर उनको एक लिखित शिकायत दी है। उनसे निष्पक्ष जांच का आग्रह किया गया है। परिवार आने वाले दिनों में धरना व कैंडल मार्च भी निकालकर बेटी के लिए इंसाफ मांगेगा। उनका आरोप है कि पुलिस ने हत्या के मामले को आत्महत्या व हादसा बनाने की कोशिश की है।
मृतक छात्रा परिवार के साथ ए ब्लॉक जहांगीरपुरी महेन्द्रा पार्क इलाके में रहती थी। वह नौवीं कक्षा की पढ़ाई कर रही थी। गत 27 अप्रैल को वह घर से हंसी खुशी गई थी। करीब 11.30 बजे छात्रा के पिता सुरेश कुमार को स्कूल से फोन पर बताया गया कि बेटी गिर गई है। उसको चोट लगी है। परिवार वाले बाबू जगजीवन राम अस्पताल पहुंचे। बेटी खून से लथपथ हालत में पड़ी थी। बेटी को मैक्स अस्पताल में शिफ्ट कराया। जहां एक मई की रात करीब सवा नौ बजे डॉक्टरों ने बेटी को मृत घोषित कर दिया।
उसी दिन के सीसीटीवी कैमरे बंद
सुरेश कुमार का कहना है कि जिस दिन उनकी बेटी के साथ स्कूल में घटना घटी,उसी दिन के स्कूल में लगे सीसीटीवी कैमरे बंद पड़े थे। कारण किसी को नहीं पता था। स्कूल की टीचर्स,कर्मचारी सब का कहना था,हम उस वक्त वहां पर मौजूद नहीं थे। उनका कहना है कि उनके सूत्रों ने बच्चों से बात करके बताया है कि घटना से पहले बेटी काफी रो रही थी। उसके बाल भी बिखरे हुए थे। लेकिन उसके साथ क्या हुआ था। किसी को नहीं पता।
बच्चों के परिवार ने भी बच्चों को बोलने से मना कर दिया है। सुरेश का कहना है कि उनका पूरा यकीन है कि बेटी के साथ गलत हरकत करने की कोशिश हुई। पहचान छुपाने के डर से उसको तीसरी मंजिल से फेंक दिया,जिससे उसकी मौत हो गई।

Share it
Top