अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ हिंदू संगठनों की गुंडागर्दी की माकपा ने निंदा की

अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ हिंदू संगठनों की गुंडागर्दी की माकपा ने निंदा की

गुड़गांव। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने हरियाणा के गुड़गांव में अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के खिलाफ तथाकथित हिन्दू संगठनों की गुंडागर्दी की आज कड़े शब्दों में निंदा की।पार्टी के जोनल सचिव शंकरलाल प्रजापति ने यहां जारी बयान में आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के समर्थित इन गुंडागिरोहों को प्रशासन संरक्षण प्रदान कर रहा है।
बयान में कहा गया है कि देश का संविधान प्रत्येक नागरिक को धार्मिक आजादी का मौलिक अधिकार देता है और किसी खाली जगह या मैदान में थोड़ी देर के लिए एक धार्मिक समुदाय के कुछ लोगों के नमाज अदा करने से किसी भी सभ्य समाज के लोगों को भला क्या आपत्ति हो सकती है?
उन्होंने काह कि यह सरकारी शह पर बेहूदा लोगों की समाज विरोधी और गैर कानूनी हरकत है। प्रशासन को अपना संवैधानिक दायित्व निभाते हुए अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों की सुरक्षा और नागरिक अधिकारों की रक्षा की पुख्ता व्यवस्था करनी चाहिए।
बयान में आरोप लगाया गया है कि भाजपा सरकार ने सत्ता में आने के बाद से हरियाणा के सामाजिक वातावरण को बिगाड़ने का ही काम किया है तथा सांप्रदायिक आधार पर अपराध को प्रोत्साहान देने की राजनीति के कारण राज्य में अपराधियों के हौंसले बुलंद हैं और आम आदमी असुरक्षित महसूस करते हैं। बयान के अनुसार रोजी-रोटी, शिक्षा-स्वास्थ्य, खेती-बाड़ी, बिजली-पानी आदि से जुड़ी समस्याएं विकराल होती जा रही हैं तथा इन जायज मसलों पर जनता के प्रति जवाबदेही की बजाय फिजूल की बातों पर विवाद खड़ा करना ही बीजेपी-आरएसएस की घृणित राजनीति है।
बयान के अनुसार माकपा सभी जनतांत्रिक, धर्मनिरपेक्ष पार्टियों, संगठनों और नागरिकों से अपील करती है कि इस तहर की घृणित राजनीतिक हरकतों पर रोक लगाने, सांप्रदायिक भाईचारा बनाए रखने, संविधान प्रदत्त नागरिक अधिकारों की रक्षा के लिए के लिए मिल कर आवाज उठाएं।

Share it
Share it
Share it
Top