प्रदर्शन कर रहे छंटनीग्रस्त जनपथ होटल कर्मियों को पुलिस ने खदेड़ा

प्रदर्शन कर रहे छंटनीग्रस्त जनपथ होटल कर्मियों को पुलिस ने खदेड़ा

नई दिल्ली। एेतिहासिक जनपथ होटल से हटाए गए तकरीबन 200 कर्मचारी प्रबंधन के विरोध में होटल के गेट पर शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे थे कि पुलिस ने उन्हें वहां से खदेड़ दिया। होटल के प्रबंधन ने उनको एक नवम्बर से नौकरी से निकाल दिया है। इसलिए इन कर्मचारियों के सामने जीविका का संकट आ खड़ा हुआ है।
निकाले गए सभी कर्मचारी पिछले 15 साल से ज्यादा वक्त से जनपथ होटल में काम कर रहे थे। कर्मचारियों में शामिल सोनू यादव ने कहा कि 31 अक्टूबर की शाम को होटल के महाप्रबंधक राजकुमार शर्मा ने 1 नवम्बर से काम पर नहीं आने को कहा।
सोनू ने कहा कि निकाले गए कर्मचारी हाउस किपिंग, आईटी,वेटर व होटल से जुड़े दूसरे काम करने वाले लोग हैं। इसमें कई ऐसे हैं जो 20 साल से अपनी सेवाएं देते आ रहे हैं । किंतु, अचानक नौकरी से निकाले जाने के बाद हम पर आजीविका का संकट आ गया है। सभी परिवार वाले हैं, किराए के मकान में रहते हैं। अब मकान के किराए से लेकर बच्चों का पालन पोषण औऱ पढ़ाई का कैसे इंतजाम कर पाएंगे।
दरअसल, केंद्र सरकार ने मंत्रिमंडल ने राजधानी में भारतीय पर्यटन विकास निगम आईटीडीसी के जनपथ होटल को बंद करने की अनुमति दे दी है। इसके बाद अब इस संपत्ति का उपयोग सरकारी दफ्तर के लिए किया जाएगा। इस साल मई माह में ही आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति की बैठक में जनपथ की संपत्ति को शहरी विकास मंत्रालय को सौंप देने की सैद्धांतिक मंजूरी दे दी गई थी।

Share it
Top