दिल्ली में सीसीटीवी कैमरे के मुद्दे पर भिड़े आप-भाजपा नेता

दिल्ली में सीसीटीवी कैमरे के मुद्दे पर भिड़े आप-भाजपा नेता


नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में लग रहे सीसीटीवी को केजरीवाल सरकार जहां अपनी उपलब्धि बता रही है, वहीं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इसे आगामी दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले लोगों को झांसा देने की बात कही है।

आम आदमी पार्टी (आप) प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने मंगलवार को ट्वीट कर विपक्षी पार्टियों पर सीसीटीवी का विरोध करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2015 से 2018 के दौरान कांग्रेस और भाजपा सीसीटीवी नहीं लगाने पर दिल्ली सरकार पर सवाल खड़े कर रही थी। अब जब 2019 में सीसीटीवी लगने शुरू हुए तो दोनों ही राजनीतिक पार्टियां पूछ रही हैं कि सीसीटीवी क्यों लगाए जा रहे हैं।

पश्चिम दिल्ली से भाजपा सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने सौरभ भारद्वाज के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि उन्होंने खुद स्वीकार किया है कि वर्ष 2015 से 2018 के बीच केजरीवाल सरकार ने कुछ काम नहीं किया है। अब जब चुनाव नज़दीक आया तो 2019 में इनको सीसीटीवी की याद आई। उन्होंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की तुलना कुंभकरण से करते हुए कहा कि वे साढ़े चार साल बाद अब घोर निद्रा से जागे हैं। जब चुनाव पास आ रहा है तो वे फिर से अपनी झांसा पालिटिक्स में लगे हैं।

उल्लेखनीय है कि राजधानी दिल्ली में सीसीटीवी लगाने की योजना में हुई देरी के लिए केजरीवाल सरकार हमेश से केंद्र सरकार पर आरोप लगाती रही है। आप नेताओं का आरोप था कि केंद्र सरकार ने तीन साल तक सीसीटीवी की फाइलें अपने पास रोक कर रखी थी। अब कांग्रेस और भाजपा का आरोप है कि दिल्ली सरकार अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए सीसीटीवी लगवा रही है, ताकि इसका राजनीतिक फायदा उठा सके।

Share it
Top