दिल्ली के लोगों को अब नहीं देना होगा लर्निंग ड्राइविंग का टेस्ट

दिल्ली के लोगों को अब नहीं देना होगा लर्निंग ड्राइविंग का टेस्ट


नई दिल्ली। दिल्ली में अब आपका लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस छह महीने के बाद एक्सपायर हो गया हो तो अब आपका लाइसेंस निरस्त नहीं किया जाएगा और न ही इसके लिए दोबारा टेस्ट देना होगा। पहली बार लाइसेंस बनावते समय हुए ऑनलाइन टेस्ट के आधार पर ही लर्निंग लाइसेंस को रिन्यू कर दिया जाएगा। यह फैसला परिवहन विभाग ने लिया है। जल्द ही परिवहन अथारिटी इस फैसले की आधिकारिक घोषणा कर देगी।

परिवहन विभाग के सूत्रों ने बुधवार को बताया कि लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस की वैलिडिटी छह महीने के लिए ही होती है, उससे पहले ही परमानेंट लाइसेंस बनवाना होता है। परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए टेस्ट देना होता है। उसके बाद ही परमानेंट लाइसेंस मिल सकता है, लेकिन देखने में आता है कि बहुत सारे लोग लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस जारी होने के छह महीने के भीतर परमानेंट लाइसेंस नहीं बनवा पाते हैं तो उन्हें फिर से नए सिरे से लर्निंग लाइसेंस के लिए आवेदन करना पड़ता है, जिसके चलते लाइसेंस के लिए दोबारा प्रक्रिया दोहरानी पड़ती है। लेकिन अब परिवहन विभाग ने तय किया है कि अगर तय समय सीमा में परमानेंट लाइसेंस नहीं बनवाया जाता है, तो फिर लर्निंग लाइसेंस को रिन्यू करवाया जा सकता है। दोबारा लर्निंग लाइसेंस बनवाने के लिए ऑनलाइन टेस्ट नहीं देना होगा और पुराने टेस्ट के आधार पर ही लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस रिन्यू कर दिया जाएगा।

दिल्ली सरकार ने ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी के अलावा यूनिवर्सिटीज व कॉलेजों में भी लर्निंग लाइसेंस बनाए जाने की स्कीम शुरू की है। दिल्ली सरकार ने कॉलेजों में स्टूडेंट्स के लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस बनाए जाने की योजना के दूसरे राउंड में गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ (आईपी)यूनिवर्सिटी और दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी (डीटीयू) के मेन कैंपस को चुना है। [रॉयल बुलेटिन अब आपके मोबाइल पर भी उपलब्ध ,

ROYALBULLETIN पर क्लिक करें और डाउनलोड करे मोबाइल एप ]


Share it
Top