सिग्नेचर ब्रिज पर सेल्फी के लिए खतरा मोल ले रहे लोग

सिग्नेचर ब्रिज पर सेल्फी के लिए खतरा मोल ले रहे लोग


नई दिल्ली। वजीराबाद इलाके में यमुना नदी पर नये बने सिग्नेचर ब्रिज को लेकर लोगों में खासा उत्सास है। ब्रिज के साथ सेल्फी के लिए लोग अपनी जान की भी परवाह नहीं कर रहे हैं। ऐसा ही नजारा शुक्रवार को यहां देखने को मिला।

उद्घाटन समारोह में पहुंचे लोगों ने सिग्नेचर ब्रिज पर फोटो और सेल्फी खींचकर सोशल मीडिया पर शेयर करने का जो सिलसिला शुरू किया, वह अब जानलेवा बनता जा रहा है। लोगों में पुल के दीदार करने के साथ ही सोशल मीडिया पर सेल्फी शेयर करने की होड़ लगी है।

भाई दूज होने के कारण सार्वजनिक छुट्टी के चलते दोपहर से ही लोग गाड़ियां रोककर यहां सेल्फी लेते नजर आए। देर शाम को कुछ लोग अपनी जान को दांव पर लगाकर कारों की खिड़कियों से बाहर झांकते और कारों की छतों पर खड़े होकर सेल्फी लेते दिखाई दिए। कुछ लोग तो सुरक्षा को दरकिनार कर पुल के खंबों पर चढ़कर भी फोटो खिंचवाने में गुरेज नहीं कर रहे थे।

यह भी देखने में आया कि मैली यमुना की सफाई को लेकर जहां तमाम प्रयास किए जा रहे हैं, वहीं सिग्नेचर ब्रिज पर पहुंचे लोग और यहां कार्यरत मजदूर भी पानी की खाली बोतल और निर्माण का कचरा यमुना में फैंकने में गुरेज नहीं कर रहे हैं।

वजीराबद पुल पर वर्ष 1997 में स्कूली बस दुर्घटना में 28 बच्चों की मौत हो गई थी। उसके बाद से यहां पुल निर्माण की मांग तेज हुई थी। दिल्ली सरकार ने पुल पर यातायात का दबाव कम करने के लिए नजदीक में ही एक चौड़ा पुल बनाने की योजना बनाई थी। 1998 के अंत तक सरकार ने इस पुल के लिए मसौदा योजना को अंतिम रूप दिया था। पुल का निर्माण शुरू होने के बाद राजनीतिक कारणों से इसे अंतिम रूप नहीं दिया जा सका और काम लटका रहा। पिछले दिनों मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 4 नवंबर को इस पुल का उद्घाटन किया। उसके अगले दिन से यह पुल जनता के लिए खोल दिया गया। रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें


Share it
Top