दाती महाराज रेप केस : क्राइम ब्रांच की जांच से संतुष्ट नहीं अदालत

दाती महाराज रेप केस : क्राइम ब्रांच की जांच से संतुष्ट नहीं अदालत


नई दिल्ली। दिल्ली की साकेत कोर्ट दाती महाराज रेप मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच द्वारा दायर आरोप पत्र पर संज्ञान लेने से इनकार कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि वे क्राइम ब्रांच द्वारा की गई जाच से संतुष्ट नहीं है। कोर्ट ने कहा कि आरोप पत्र पर वह फैसला हाईकोर्ट के अगले आदेश के बाद लेगा जिसमें हाईकोर्ट ने सीबीआई जांच का आदेश दिया था और सीबीआई को पूरक आरोप पत्र दायर करने का निर्देश दिया था।

पिछले 1 अक्टूबर को क्राइम ब्राच ने आरोप पत्र दाखिल किया था। करीब 300 पेजों के आरोप पत्र में क्राइम ब्रांच ने दाती महाराज के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 376 ,377 और धारा 354 के तहत आरोपी बनाया है। आरोप पत्र में कहा गया है कि पुलिस को अब तक दाती महाराज को गिरफ्तार करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं मिले हैं।

पीड़िता द्वारा एफआईआर दर्ज कराने के करीब 3 महीने के बाद दायर आरोप पत्र में क्राइम ब्रांच ने दाती महाराज के भाईयों को भी आरोपी बनाया है। क्राइम ब्रांच ने दाती महाराज को गिरफ्तार किए बिना ही आरोप पत्र दाखिल कर दिया था।

पिछले 3 अक्टूबर को हाईकोर्ट ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपने का आदेश दिया था। हाईकोर्ट भी दिल्ली पुलिस की जांच से संतुष्ट नहीं था। जब हाईकोर्ट ने आरोप पत्र में पुलिस को अब तक दाती महाराज को गिरफ्तार करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं मिलने की बात देखी तो जज नाराज हो गए। तब हाईकोर्ट ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपते हुए इस मामले में पूरक आरोप पत्र दायर करने का निर्देश दिया था।


Share it
Top