प्रधानमंत्री से आठ सितम्बर को 'बाल सुरक्षा दिवस' घोषित करने की मांग

प्रधानमंत्री से आठ सितम्बर को बाल सुरक्षा दिवस घोषित करने की मांग


नई दिल्ली। गुरुग्राम के एक प्रतिष्ठित निजी स्कूल में पढ़ने वाले छात्र की हत्या के बाद गठित प्रद्युम्न फाउंडेशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से 8 सितंबर को 'बाल सुरक्षा दिवस' घोषित करने की मांग की है। सात साल के मासूम इस छात्र की हत्या गला रेतकर कर दी गई थी।

प्रद्युम्न फाउंडेशन जोकि प्रद्युम्न को न्याय दिलाने और स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित कराने के लिए लोगों को जागरूक करने के मकसद से गठित हुआ था। इस संगठन की मांग है कि इस दिवस को प्रतिवर्ष पूरे राष्ट्र में मनाया जाए। जिस दौरान लोग स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा से संबंधित हर पहलू पर चर्चा करें। स्कूल प्रबंधन की खामियां और अनिवार्य सुधारों की दिशा में की गई पहल की समीक्षा करें।

इसी सिलसिले में प्रद्युम्न फाउंडेशन के सदस्यों ने गत 29 अगस्त को केंद्रीय कृषिमंत्री राधामोहन सिंह से मुलाकात भी की थी। सदस्यों से मुलाकात के बाद राधामोहन सिंह ने प्रद्युम्न फाउंडेशन के इस कदम को स्वीकार करते हुए इस संबंध में प्रधानमंत्री से मिलकर निजी तौर पर आग्रह करने का आश्वासन दिया है।

प्रद्युम्न के पिता बरुण चंद्र ठाकुर के मुताबिक, 'राधामोहन सिंह ने प्रद्युम्न फाउंडेशन के इस विषय पर जागरूकता लाने के कदम की भरपूर सराहना की और प्रद्युम्न फाउंडेशन द्वारा प्रद्युम्न की प्रथम पुण्यतिथि पर गुरुग्राम में आयोजित 'बाल सुरक्षा दिवस' कार्यक्रम का निमंत्रण भी स्वीकार किया है।'


Share it
Top