किसान, मजदूर, महिला विरोधी नीतियों के खिलाफ दी गिरफ्तारी

किसान, मजदूर, महिला विरोधी नीतियों के खिलाफ दी गिरफ्तारी


गुड़गांव। सेंटर आॅफ इंडियन ट्रेड यूनियन्स (सीटू) एवं अखिल भारतीय किसान सभा के आव्हान पर केंद्र और हरियाणा सरकार की किसान, मजदूर, महिला विरोधी नीतियों के खिलाफ आज यहां सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने गिरफ्तारियां दीं।

सुबह 11 बजे से ही सीटू से संबंधित यूनियनों के कार्यकर्ता कमला नेहरू पार्क में इकट्ठा होना शुरू हुए। यूनियनों की संयुक्त बैठक की अध्यक्षता सीटू के राज्याध्यक्ष सतवीर सिंह, भवन निर्माण के जिला उपाध्यक्ष सूरत सिंह, मिड-डे मील की जिला अध्यक्ष मूर्ति देवी ने तथा संचालन सीटू के जिला कोषाध्यक्ष शंकर प्रजापति ने किया।

इस अवसर पर श्री प्रजापति ने कहा कि आज के दिन 1942 में महात्मा गांधी ने पूरे देश को आह्वान कर 'अंग्रेजों भारत छोड़ो' का नारा दिया था। इस दिन से देश के किसान, मजदूर, छोटा व्यापारी, नौजवान, छात्र, महिलाएं देश की सत्ता पर काबिज अंग्रेजों को बाहर करने के लिए 'करो या मरो' पर उतारू हो गए थे।

उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार आज अंग्रेजों के ही नक्शे कदम पर चल रही है। देश को पूंजीपतियों के हाथों लुटवाया जा रहा है, किसानों की आत्महत्याएं चरम पर है, मजदूरों के अधिकारों को कुचला जा रहा है, महिलाओं के लिए सुरक्षा नाम की कोई चीज बाकी नहीं बची है, नौजवान बेरोजगार घूम रहे है, शिक्षा व स्वास्थ्य का पूरी तरह बाजार के हवाले कर दिया जा रहा है। ऐसी स्थिति में देश में जेल भरो का यह आह्वान किया गया है ताकि मोदी सरकार की आंखों पर बंधी पट्टी उतारी जा सके और आम लोगों के जीवन से जुड़े मुद्दों को प्रमुखता से देश में उठाया जा सके। बाद में 'मोदी गद्दी छोड़ो' नारे के साथ लोगों ने गिरफ्तारियां दीं।

Share it
Top