सुप्रीम कोर्ट ने कहा, रेयान स्कूल के मालिकों की जमानत याचिका पर दस दिनों के अंदर फैसला करे हाईकोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, रेयान स्कूल के मालिकों की जमानत याचिका पर दस दिनों के अंदर फैसला करे हाईकोर्ट

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट को निर्देश दिया है कि गुरुग्राम के रेयान स्कूल के छात्र प्रद्युम्न की हत्या के मामले में स्कूल मालिकों की जमानत याचिका पर दस दिनों के अंदर फैसला करे। हाईकोर्ट ने पिछले 7 अक्टूबर को स्कूल के मालिक ऑगस्टाइन पिंटो और उनके पिता ऑगस्टिन फ्रांसिस पिंटो और माता ग्रेस पिंटो की गिरफ्तारी से अंतरिम प्रोटेक्टशन दे दिया था जिसे प्रद्युम्न के पिता बरुण चंद्र ठाकुर ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।
पिछले 13 अक्टूबर को चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने बरुण ठाकुर की याचिका पर सुनवाई करते हुए नोटिस जारी करते हए पिंटो परिवार से विस्तृत रिपोर्ट मांगी थी। याचिका में कहा गया था कि ये वारदात अत्यंत गंभीर, नृशंस और सोची समझी साजिश के तहत की गई जो कि दुर्लभतम से भी दुर्लभ श्रेणी में आती है। ऐसे मामले में हाईकोर्ट ने आरोपियों को अंतरिम जमानत देकर गलत किया है। इससे आरोपी सबूतों व गवाहों से छेड़छाड़ कर सकते हैं।
याचिका में कहा गया था कि हरियाणा पुलिस की एसआईटी और सीबीएसई की कमेटी ये मान चुकी है कि इस मामले में लापरवाही बरती गई अन्यथा बच्चे की हत्या नहीं होती। याचिका में हाईकोर्ट के अंतरिम जमानत के फैसले पर तुरंत रोक लगाने की मांग की गई है। हाईकोर्ट ने तीनों को जांच में सहयोग करने का आदेश दिया था। इससे पहले तीनों को बांबे हाईकोर्ट से भी अंतरिम जमानत मिल गई थी।

Share it
Top