विधायक पति की टिकट कटी, अब पत्नी निर्दलीय लड़ेगी चुनाव

विधायक पति की टिकट कटी, अब पत्नी निर्दलीय लड़ेगी चुनाव


गुरुग्राम। भारतीय जनता पार्टी की दूसरी सूची जारी होने के दो घंटे पहले तक अपनी टिकट पक्की होने की दावेदारी करने वाले निवर्तमान विधायक उमेश अग्रवाल का सपना रात साढ़े दस बजे पार्टी ने तोड़ दिया। बेशक पार्टी ने उन्हें टिकट न दिया हो, लेकिन अब चुनाव मैदान में वे नहीं तो उनकी पत्नी अनीता लूथरा अग्रवाल उतर रही हैं। गुरुवार को उन्होंने इसकी घोषणा कर दी।

बुधवार की शाम को हुए कार्यकर्ता सम्मेलन में भारी भीड़ उमड़ी थी। इस भीड़ से उमेश अग्रवाल भी गदगद थे। कार्यकर्ता भी जोश में थे। उमेश अग्रवाल हर हाल में खुद को टिकट मिलने के दावे कर रहे थे। अफवाहों पर ध्यान न देने की बात वे कई बार कार्यकर्ताओं से कह चुके थे। कार्यकर्ता सम्मेलन करने की एक दिन पहले ही योजना बनी थी। हालांकि वे इससे पूर्व कई आशीर्वाद समारोह आयोजित कर चुके थे। टिकटों के लिए गहन मंथन के बाद बीजेपी ने पहले प्रदेश में 78 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा की थी, जिसमें गुड़गांव व बादशाहपुर विधानसभा को होल्ड पर रख लिया था। अंतत: बुधवार की रात को बीजेपी ने प्रदेश में शेष बची 12 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी। इस घोषणा के साथ ही विधायक उमेश अग्रवाल के दावे धराशायी हो गये। उन्हें पार्टी ने टिकट नहीं दी। या यूं कहें कि पार्टी ने उन पर विश्वास नहीं जताया। बेशक पार्टी ने उमेश अग्रवाल को तीसरी बार टिकट नहीं दी हो, लेकिन चुनाव मैदान में वे अप्रत्यक्ष रूप से होंगे जरूर। यानी अब चुनाव उनकी पत्नी अनीता लूथरा अग्रवाल लड़ रही हैं। कल शुक्रवार को वे अपना नामांकन दाखिल करेंगी।


Share it
Top