गुरुग्राम: मिलेनियम सिटी की मेयर ने दिखाये तेवर, लापरवाह अधिकारियों की खैर नहीं

गुरुग्राम: मिलेनियम सिटी की मेयर ने दिखाये तेवर, लापरवाह अधिकारियों की खैर नहीं


गुरुग्राम। गुरुग्राम नगर निगम में तैनात अधिकारियों द्वारा बातों को गंभीरता से नहीं लेने समेत तमाम आरोपों को लेकर मीडिया के समक्ष आंसु बहाने वाली मिलेनियम सिटी की मेयर ने तेवर दिखाने शुरू कर दिये हैं। नगर निगम में लिये जाने वाले निर्णयों तक की जानकारी मेयर को नहीं मिलने से क्षुब्ध मेयर मधु आजाद सोमवार को दिल्ली में हरियाणा के शहरी स्थानीय निकाय विभाग के प्रधान सचिव से मिली और अपनी बात रखी। प्रधान सचिव की ओर से उन्हें झंडी दी गई कि वे लापरवाह अधिकारियों की शिकायत उनसे करें, जरूर कार्रवाई होगी।

प्रधान सचिव से झंडी मिलने के बाद अब मेयर ने भी तेवर दिखाते हुये कह दिया है कि या तो लापरवाह अधिकारी सुधर जायें, नहीं तो फिर कार्रवाई झेलने को तैयार रहें। बैठक में मेयर मधु आजाद ने प्रधान सचिव को बताया कि नगर निगम के चारों जोनों में सफाई कार्य का ठेका अलग-अलग एजेंसियों को दिया हुआ है। अक्सर यह देखने को मिलता है कि ठेकेदारों द्वारा सफाई कार्य के लिए कम मैनपावर लगाई हुई है और बिल का भुगतान पूरी मैनपावर का हो जाता है। ऐसे मामलों की जांच करके कार्रवाई की जानी चाहिए। इसके साथ ही नगर निगम गुरुग्राम में कचरा प्रबंधन का कार्य करने वाली इकोग्रीन एनर्जी का कार्य भी संतोषजनक नहीं है। कंपनी को बार-बार कहने के बावजूद भी कंपनी अपने कार्य में सुधार नहीं ला रही है। कंपनी पर नियमानुसार कार्रवाई करने के लिए नगर निगम सदन की सामान्य बैठक में भी कई बार प्रस्ताव पास किया जा चुका है। आजाद ने कहा कि इकोग्रीन के स्थान पर कोई अन्य बेहतर एजेंसी की व्यवस्था करने के बारे कार्रवाई शुरू की जानी चाहिए ताकि कचरा प्रबंधन का कार्य सही प्रकार से हो सके।

मेयर ने अवैध निर्माणों, कालोनाईजेशन का भी मुद्दा उठाया

बैठक में मेयर मधु आजाद ने नगर निगम क्षेत्र में चल रहे अवैध निर्माणों और अवैध कॉलोनाईजेशन के बारे में भी प्रधान सचिव को अवगत करवाया। इस पर प्रधान सचिव ने कहा कि आप अवैध निर्माण और अवैध कॉलोनाईजेशन की एक सूची तैयार करें। अगर कोई अधिकारी इन पर कार्रवाई नहीं करता है, तो उक्त अधिकारी की शिकायत सूची सहित प्रधान सचिव कार्यालय में भिजवाएं। संबंधित अधिकारी पर तुरंत कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही गुरूग्राम में स्ट्रीट लाईट का कार्य करने वाली ईईएसएल की कार्यप्रणाली के बारे में भी मेयर ने असंतोष जताया। उन्होंने कहा कि कंपनी द्वारा जो लाईटें लगाई गई हैं, उनमें से अधिकतर खराब हो गई हैं, जिसके कारण रात्रि में अंधेरा पसरा रहता है। उन्होंने कहा कि कंपनी को अपना कार्य दुरूस्त करने बारे सख्त निर्देश दिए जाएं, ताकि नागरिकों को बेहतर प्रकाश व्यवस्था मिल सके।


Share it
Top