पुलिस कस्टडी में आरोपी की मौत, परिजनों ने टॉर्चर करने का लगाया आरोप

पुलिस कस्टडी में आरोपी की मौत, परिजनों ने टॉर्चर करने का लगाया आरोप

फरीदाबाद। बीमा पॉलिसी रिन्यू करने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले गिरोह के सदस्य संजय रॉय की सीआईए साइबर क्राइम की कस्टडी में मौत हो गई। मृतक संजय को साइबर अपराध शाखा ने रविवार को पूछताछ के लिए गिरफ्तार किया था। मृतक की मौत से गुस्साए परिजनों ने पुलिस पर थर्ड डिग्री टार्चर देने का आरोप लगाया। मृतक संजय के शव के पोस्टमार्टम के लिए डाक्टरों की एक टीम गठित की गई है, जो पोस्टमार्टम करेगी। इस मामले की जांच जीजेएम संदीप चौहान को सौंपी गई है। बता दें कि साइबर अपराध शाखा ने 4 जुलाई को बंद बीमा पॉलिसी को दोबारा से चालू कराने के नाम पर ठगी करने वाले पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर 19 लाख रुयये बरामद कर जेल भेजा गया था, जिन्होंने कई लोगों से लगभग 29 लाख रुपये की ठगी की थी। साइबर अपराध शाखा की टीम ने 9 जुलाई को आरोपी विक्की को तिहाड़ जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लेकर पूछताछ की थी। पूछताछ में आरोपी विक्की ने संजय रॉय एवं आरोपी रूपेश का नाम उजागर किया था। आरोपी रुपेश ने ही रविवार को संजय रॉय को गिरफ्तार करवाया था जो दोनों इस केस मे वांछित थे । साइबर अपराध शाखा की रेड के दौरान मकान मलिक की हाजरी में आरोपी संजय के घर से 1,55000 व अन्य दस्तावेज बरामद किए गए थे जिसमें आरोपी मृतक संजय की पत्नी और मकान मालिक ने गवाह तौर पर हस्ताक्षर किए थे ।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि जब गिरफ्तार आरोपी संजय राय से जब अनुसंधान अधिकारी ने पूछताछ की तो मृतक आरोपी जमीन पर गिर पड़ा। अनुसंधान अधिकारी एवं मौजूद स्टाफ ने तुरंत प्रभाव से मृतक संजय को अपनी गाड़ी से अस्पताल पहुंचाया, जहां पर मृतक संजय को डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। उन्होंने बताया कि मृतक संजय राय पुत्र अभिजीत राय निवासी सेक्टर-22 फरीदाबाद व मूल निवासी पश्चिम बंगाल अन्य आरोपियों को फ्रॉड बैंक अकाउंट प्रोवाइड करने का काम करता था। और इससे पहले भी वह कई मामलों में गिरफ्तार हो चुका है। पुलिस प्रवक्ता ने स्पष्ट किया कि पुलिस ने संजय को किसी प्रकार का टॉर्चर नहीं किया और पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद यह उजागर हो जाएगा।


Share it
Top