गुरुग्राम के निजी स्कूल के प्रिंस हत्याकांड में आरोपित भोलू को जमानत नहीं

गुरुग्राम के निजी स्कूल के प्रिंस हत्याकांड में आरोपित भोलू को जमानत नहीं


नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुग्राम के एक निजी स्कूल के 7 वर्षीय छात्र प्रिंस (बदला नाम) मर्डर केस में 16 साल के आरोपित भोलू (बदला हुआ नाम) को जमानत देने से इ दिया है। जमानत अर्जी पर सुनवाई के दौरान आरोपित ने कहा कि सीबीआई ने 60 दिन की तय सीमा में चार्जशीट दाखिल नहीं की। नाबालिग को उम्रकैद की सज़ा नहीं दी जा सकती। सुप्रीम कोर्ट इन दलीलों से सहमत नहीं हुआ।
कोर्ट ने कहा कि धारा 302 के तहत आरोप पत्र दायर करने की समय सीमा 90 दिन की होती है। आरोपित ने पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में जमानत याचिका दायर की थी। हाईकोर्ट ने पिछले 6 जून को उसकी जमानत याचिका खारिज कर दी थी। हाईकोर्ट ने आरोपित की इस मांग को खारिज कर दिया था कि उसे वैधानिक जमानत दी जाए, क्योंकि सीबीआई ने 60 दिनों में आरोप पत्र दाखिल नहीं किया था। उसके पहले 21 मई को सेशंस कोर्ट ने आदेश दिया था कि आरोपित के खिलाफ बालिग की तरह केस चलाया जाए। सेशंस कोर्ट ने जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के आदेश पर मुहर लगाते हुए ये आदेश दिया था।

Share it
Share it
Share it
Top