रक्षाबंधन को लेकर बस-ट्रेन फुल, मेट्रो में भी रही भीड़

रक्षाबंधन को लेकर बस-ट्रेन फुल, मेट्रो में भी रही भीड़


फरीदाबाद। रक्षाबंधन के त्यौहार पर रविवार सुबह से ही शहर में बहन-बेटियों का अपने भाईयों के यहां आना-जाना शुरू हो गया। जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधने के लिए रवाना होती गई। रक्षाबंधन के पर्व के चलते शहर के रेलवे स्टेशनों, बस अड्डों सहित मेट्रो स्टेशनों व निजी वाहनों में यात्रियों की भरमार रही। हरियाणा सरकार द्वारा रोडवेज की बसों में नि:शुल्क यात्रा के चलते बसों में महिलाओं की खासी भीड़ रही और जिसके चलते उन्हें असुविधा का भी सामना करना पड़ा। यही हाल शहर के रेलवे स्टेशनों को रहा, जहां लोगों को ट्रेनों में चढ़ने व उतरने में अच्छी खासी मशक्कत करनी पड़ी। बस अड्डा व रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की अच्छी खासी भीड़ उमड़ पड़ी। इस भीड़ के आगे बसें व रेल भी कम पड़ती नजर आई। भीड़ से बचने के लिए फरीदाबाद से दिल्ली आने-जाने के लिए मेट्रो का सहारा लेना पड़ा। इसके चलते रविवार को मेट्रो सेवा 8 की बजाए 6 बजे ही शुरू कर दी गई, इसके बावजूद मेट्रो में भी अच्छी खासी भीड़ रही। उधर, महिलाओं की सुरक्षा के मद्देनजर बस अड्डे व रेलवे स्टेशनों पर पुलिस भी अलर्ट दिखाई दी। कॉपरेटिव सोसायटी की ओर से रक्षाबंधन को लेकर उन सभी सोसायटी की बसों में महिला व उनके 15 साल तक के बच्चों का सफर फ्री रहा, जिन्हें सरकार की ओर से लाइसेंस जारी किया हुआ है। इससे पलवल और फरीदाबाद के यात्रियों को कुछ रूटों पर सोसायटी की बसों में भी फ्री सुविधा मिली। रोडवेज के यातायात प्रबंधक नवनीत बजाज ने बताया कि उनके यहां मोहना रूट पर चलने वाली केवल दो बसें हैं, जो महिलाओं के लिए फ्री रही। इसी तरह पलवल जिले की हम बात करें तो नूंह रूट समेत कुछ रूटों पर सोसायटी की कई बसें चलती हैं, जिनका भी यात्रियों ने लाभ उठाया। रोडवेज महाप्रबंधक भूपेंद्र सिंह की देखरेख में सदर की 104 और सिटी बस सेवा की 40 बसें चलाई गई हैं। जो रक्षाबंधन के उपलक्ष्य में महिलाओं को बेहतर सुविधा देने में जुटी रही। औद्योगिक नगरी होने के नाते फरीदाबाद से अलीगढ़ की ओर जाने वाली यात्रियों की संख्या अच्छी खासी रही। महाप्रबंधक भूपेंद्र सिंह ने तुरंत यात्रियों को बेहतर सुविधा देने के उद्देश्य से अलीगढ़ के लिए 13 बसें चलाई गई। जबकि अन्य दिनों में ये फेरे 6 तक रहते थे। हाईवे पर अवैध रूप से कुछ प्राइवेट बसें रोडवेज की शक्ल में चल रही थीं, इसलिए बहनों को चाहिए कि वे बसों में सफर शुरू करने से पहले यह पता कर लें कि वह बस रोडवेज की है या फिर अवैध। अन्यथा सफर के दौरान आपका बस किराए मांगने पर झगड़ा भी हो सकता है। हालांकि अवैध बसों को लेकर रोडवेज महाप्रबंधक की ओर से धरपकड़ का काम जारी रहा।

बल्लभगढ़ रोडवेज महाप्रबंधक भूपेंद्र सिंह के निर्देश पर रक्षाबंधन को लेकर यातायात प्रबंधक नवनीत बजाज के नेतृत्व में रोडवेज का स्टाफ बस अड्डे के मुख्य गेट पर तैनात रहे, जो बस अड्डा के सामने आने-जाने वाले अवैध वाहनों पर नजर रखे हुए थे। वहीं लोकल ट्रेनों के सभी डिब्बे खचाखच भरे थे, जबकि एक्सप्रेस ट्रेनों के साधारण डिब्बों में चढ़ते उतरने को मारामारी रही। इन डिब्बों में ठूंस-ठूंसकर यात्री भरे हुए थे। इससे बच्चे व बुजुर्गों की शामत आई रही। ट्रेनों में बढ़ती भीड़ को लेकर जीआरपी व आरपीएफ की ओर से प्लेटफार्म पर पुलिसकर्मी तैनात किए गए। फरीदाबाद में जीआरपी के उपनिरीक्षक चुनीलाल के नेतृत्व में एक्सप्रेस व लोकल ट्रेनों के रूकते ही पुलिसकर्मी यात्रियों को डिब्बों में सुरक्षित चढ़ाते नजर आए।


Share it
Share it
Share it
Top