खुशखबरी ! सशस्त्र सेनाओं के चिकित्सा अधिकारी अब 60 के बजाय 65 वर्ष में होंगे रिटायर

खुशखबरी ! सशस्त्र सेनाओं के चिकित्सा अधिकारी अब 60 के बजाय 65 वर्ष में होंगे रिटायर


नयी दिल्ली । सशस्त्र सेनाओं में डाक्टरों की कमी पूरी करने के लिए सरकार ने एक महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए चिकित्सा अधिकारियों की सेवा निवृत्ति की आयु 60 से बढाकर 65 वर्ष करने का निर्णय लिया है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आज यहां हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी दी गयी। इस फैसले के बाद सशस्त्र सेनाओं तथा असम राइफल्स के जनरल ड्यूटी चिकित्सा अधिकारी तथा विशेषज्ञ चिकित्सा अधिकारी अब 60 के बजाय 65 वर्ष की उम्र में रिटायर होंगे।
इससे सशस्त्र सेनाओं में डाक्टरों की कमी पर कुछ हद तक अंकुश लगेगा और मरीज-चिकित्सक अनुपात में सुधार के साथ उनकी देखभाल भी बढेगी।
मेडिकल कॉलेजों में शिक्षण गतिविधियों में भी बढोतरी होगी तथा सरकार के राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रमों का भी प्रभावशाली ढंग से क्रियान्वयन किया जा सकेगा। सशस्त्र सेनाओं में डाक्टरों की कमी का मुद्दा लंबे समय से उठाया जा रहा था जिसके बाद पूर्व प्रभाव से यह निर्णय लिया गया है।

Share it
Share it
Share it
Top