तीन साल में राजद्रोह के कुल 105 मामले दर्ज, सजा केवल दो को

तीन साल में राजद्रोह के कुल 105 मामले दर्ज, सजा केवल दो को

नई दिल्ली। देश में पिछले तीन साल में राजद्रोह के कुल एक सौ पांच मामले दर्ज किये गए जिनमें 165 लोगों को गिरफ्तार किया गया और 53 मामलों में आरोप पत्र दाखिल किये गए लेकिन मात्र दो लोगों को ही सजा हुयी। यह जानकारी गृह राज्य मंत्री हंस राज अहीर ने आज राज्यसभा में एक लिखित प्रश्न के उत्तर में दी। श्री अहीर ने बताया कि राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो से प्राप्त सूचना के अनुसार वर्ष 2014 में 47 मामले दर्ज किये गए और 58 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया। सोलह व्यक्तियों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किये गए लेकिन एक भी व्यक्ति को सजा नहीं मिली जबकि 2015 में 30 मामले दर्ज किये गए और 73 व्यक्ति गिरफ्तार किये गए और 13 व्यक्तियों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किये गए लेकिन सजा केवल एक व्यक्ति को मिली। उन्होंने बताया कि वर्ष 2016 में राजद्रोह के अपराध के तहत 28 मामले दर्ज किये गए लेकिन इसमें उत्तर प्रदेश तथा बंगाल के आंकड़े शामिल नहीं हैं। इन 28 मामलों में 34 व्यक्ति गिरफ्तार किये गए और 24 के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किये गए लेकिन केवल एक व्यक्ति को ही सजा मिली। उन्होंने बताया कि राजद्रोह के सर्वाधिक मामले झारखण्ड और बिहार में दर्ज किये गए और सर्वाधिक गिरफ्तारियां भी इन्ही राज्यों में हुयीं। बिहार में दो सालों में 25 मामले दर्ज हुए और 68 व्यक्ति गिरफ्तार किये गए।

Share it
Top