बजरंग-अमित ने भी किया निराश, अब रेपचेज का इंतजार

बजरंग-अमित ने भी किया निराश, अब रेपचेज का इंतजार

पेरिस। एशियाई चैंपियन बजरंग पूनिया और अमित धनखड़ ने विश्व कुश्ती प्रतियोगिता के अंतिम दिन शनिवार को खासा निराश किया। आखिरी दिन उतरे चारों भारतीय फ्री स्टाइल पहलवानों की चुनौती जल्दी ही टूट गयी। प्रतियोगिता में खाली हाथ चल रहे भारत को एशियाई चैंपियन बजरंग से खासी उम्मीदें थीं लेकिन 65 किग्रा में बजरंग राउंड 32 का मुकाबला जीतने के बाद राउंड 16 में हार गये। अमित 70 किग्रा में अपने शुरुआती दौर में ही पिट गये। 74 किग्रा में प्रवीण राणा राउंड 32 जीतने के बाद राउंड 16 में हार गये। सत्यव्रत कादियान के साथ 97 किग्रा में यही स्थिति रही और वह भी राउंड 32 का मुकाबला जीतने के बाद राउंड 16 में हार गये। भारतीय पहलवानों को हराने वाले पहलवानों के फाइनल में पहुंचने की स्थिति में ही भारतीयों को रेपचेज में उतरने का मौका मिल पायेगा वरना इस टूर्नामेंट में भारत की चुनौती खाली हाथ समाप्त हो जायेगी।
बजरंग ने अच्छी शुरुआत करते हुए जर्मनी के एलेक्जेंडर सेमीसोरो को 6-2 से हराया लेकिन जार्जिया के जुराबी लाकोबिशविली ने राउंड 16 में बजरंग को नजदीकी मुकाबले में 6-5 से हरा दिया। लाकोबिशविली फिर अपना क्वार्टरफाइनल जीतकर सेमीफाइनल में पहुंच गये हैं और उनके फाइनल में पहुंचने की स्थिति में ही बजरंग को रेपचेज में पहुंचने का मौका मिल पायेगा।
70 किग्रा में अमित को पहले ही राउंड में कजाकिस्तान के अकझुरेक तानातारोव ने 9-2 से पीट दिया। तानातारोव को क्वार्टरफाइनल में इटली के फ्रेंक मारक्वेज ने तकनीकी श्रेष्ठता के आधार पर 12-0 से पीट दिया और इसके साथ ही अमित की उम्मीदें समाप्त हो गयीं। प्रवीण राणा ने 74 किग्रा में किर्गिजिस्तान के सैकबई युसूपोव को 4-2 से हराया लेकिन राउंड 16 में अजरबैजान के जबराइल हसानोव ने भारतीय पहलवान को 5-0 से धो दिया। हसानोव को फिर क्वार्टरफाइनल में रूस के खेताग साबोलोव से पराजय का सामना करना पड़ा। साबोलोव ने हसानोव को चित कर यह मुकाबला जीता। हसानोव की हार के साथ प्रवीण राणा की उम्मीदें भी दम तोड़ गयीं। 97 किग्रा में सत्यव्रत ने फ्रांस के मैक्सिम फ्रेंक्वायज को एक मिनट 12 सेकंड में ही चित कर अपना पहला मुकाबला जीत लिया लेकिन राउंड 16 में वह अर्मेनिया के जार्जी कैतोयेव से 0-5 से पिट गये। सत्यव्रत को अब इस बात का इंतजार है कि कैतोयेव आगे कहां तक पहुंचते हैं।

Share it
Top