भागवत को फंसाने के लिए एनआईए पर दबाव की जानकारी नहीं : शिंदे

भागवत को फंसाने के लिए एनआईए पर दबाव की जानकारी नहीं : शिंदे

नयी दिल्ली । संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार में केन्द्रीय गृहमंत्री रहे सुशील कुमार शिंदे ने आज कहा कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ(आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत को 'हिंदू आतंकवादी' के तौर पर फंसाने के लिए संप्रग के शासनकाल में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) पर दबाव बनाने के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है।
शिंदे ने इस संबंध में पूछे गए सवाल पर कहा "इस तरह का मामला कभी मेरी जानकारी में नहीं आया। केंद्र में भारतीय जनता पार्टी और आरएसएस के नियंत्रण वाली सरकार है इसलिए उसे सारे तथ्य उजागर करने चाहिए। भागवत जी को फंसाने के लिए एनआईए पर दबाव बनाए जाने की मुझे कोई जानकारी नहीं है। ' उन्होंने कहा कि एनआईए एक पेशेवर जांच एजेंसी है और वह अपने हिसाब से काम करती हैं।
सत्ता में कोई भी रहे इस एजेंसी पर दबाव बनाना किसी के लिए संभव नहीं है। इस संबंध में आरएसएस के विचारक राकेश सिन्हा ने कहा "संप्रग सरकार का प्रयास आरएसएस की छवि धूमिल करना रहा है। भागवत तथा हिंदू संगठन की छवि बिगाड़ना उनका मकसद रहा है।
इसके लिए शीर्ष स्तर पर साजिश रची गयी और इसमें खुद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी शामिल हो सकती हैं। वे भारतीय सभ्यता तथा हिंदू संस्कृति को अपमानित करना चाहते हैं।


Share it
Top