कीमती मोबाइल दिखाकर थमा जाते थे डमी, अफजल गैंग के तीन शातिर ठग गिरफ्तार

कीमती मोबाइल दिखाकर थमा जाते थे डमी, अफजल गैंग के तीन शातिर ठग गिरफ्तार


नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है जो भोले भाले लोगों को महंगे मोबाइल सस्ते में देने का झांसा देकर ठग लेते थे। पुलिस ने कई राज्यों में सक्रिय अफजल गैंग के ऐसे तीन शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है।

यह गिरोह अकेले मध्य प्रदेश के इंदौर में ही दर्ज 40 से ज्यादा आपराधिक मामलों में वांटेड था। आरोपितों की पहचान वाहिद (33), अफजल राणा (34) और सोनू मलिक (25) के रूप में हुई है। इस गैंग के एक सदस्य से इंदौर पुलिस दो लाख रुपये के मोबाइल बरामद कर चुकी है। एडिशनल सीपी (क्राइम) राजीव रंजन ने बताया कि एसआईयू को इस तरह की सूचना मिली थी कि इस तरह से लोगों से ठगी की घटनाओं को अंजाम देने वाले गिरोह के सदस्य मोबाइल बदलने का झांसा देकर लोगों से चाकू की नोंक पर कीमती सामान, कैश और मोबाइल आदि लूट लेते हैं।

यह भी पता लगा कि इस गिरोह के खिलाफ मध्य प्रदेश में चालीस से ज्यादा केस दर्ज हैं। गिरोह के कुछ लोगों के ओखला इलाके में आने की जानकारी मध्य प्रदेश पुलिस से मिली। सूचना पर त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस टीम ने जाकिर नगर इलाके में छापेमारी करते हुए सोनू मलिक को पकड़ा उसके बाद फ्लैट से वाहिद को पकड़ा जबकि इन दोनों से हुई पूछताछ के बाद मेरठ से गिरोह के सरगना अफजल को गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस के मुताबिक यह गिरोह लूटपाट और झपटमारी की वारदात को अंजाम देने के लिए मोटर साइकिल का इस्तेमाल करता है। पुलिस ने इनके पास से 60 मोबाइल फोन की डमी भी बरामद की हैं।

पुलिस के मुताबिक गिरोह के बदमाश तीन-चार की टीम बनाकर इलाका बांटकर घटनाओं को अंजाम देते हैं। ये मोबाइल के शेप में कांच के टुकड़े बनाकर काले रंग के कवर में रखते हैं जो देखने में किसी कीमती मोबाइल जैसे ही लगते हैं। ये लोग राह चलते लोगों को अपने पुराने मोबाइल को कुछ पैसे देकर कीमती मोबाइल से बदलने का लालच देते थे, जैसे ही कोई अपना मोबाइल उसे देता, यह उसे डमी मोबाइल देकर फरार हो जाते। कोई अगर इनकी चालाकी समझकर मोबाइल नहीं देता तो उसे यह चाकू दिखाकर लूट लेते थे।


Share it
Share it
Share it
Top