देश के 82 जिलों में नये मेडिकल कालेज खुलेंगे

देश के 82 जिलों में नये मेडिकल कालेज खुलेंगे

नयी दिल्लीदुनिया में सबसे अधिक 502 मेडिकल कालेज भारत में हैं लेकिन एक अरब तैंतीस करोड़ की आबादी वाले देश में मात्र आठ लाख 63 हज़ार डाक्टर ही उपलब्ध हैं। इस तरह डेढ़ हज़ार की आबादी पर एक डाक्टर हैं।

सरकार मरीजों पर डाक्टरों की कमी को देखते हुए देश के 82 जिलों में नए मेडिकल कालेज खोलने जा रही है और स्नातक तथा स्नात्तोकोत्तर कक्षाओं की सीटें भी बढ़ाने जा रही है।

खेल एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार मेडिकल कौंसिल ऑफ़ इंडिया में कुल दस लाख अठहत्तर सात सौ बत्तीस एलोपैथिक डाक्टर दर्ज हैं लेकिन केवल आठ लाख 63 हज़ार डॉक्टर ही मरीजों के लिए उपलब्ध हैं यानी बीस प्रतिशत डाक्टर प्रैक्टिस नही करते हैं।

सूत्रों के अनुसार देश के 502 मेडिकल कालेजों में सत्तर हज़ार चार सौ बारह सीटें हैं। इनमें पिछले पांच साल में 118 नये कालेज बने हैं और इनसे 18 हज़ार 635 सीटों की वृद्धि हुई है।

सूत्रों के अनुसार एलोपेथिक डाक्टरों के अलावा सात लाख 63 हज़ार होम्योपैथिक एवं आयुर्वेद डाक्टर भी देश में हैं।

इनमे छह लाख दस हज़ार डाक्टर ही मरीजों के लिए उपलब्ध हैं। इस तरह एक मरीज़ पर 902 डाक्टर उपलब्ध हैं जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानकों से अधिक हैं क्योंकि ये मानक एक हज़ार मरीज़ पर एक डाक्टर का है।

सूत्रों के अनुसार देश में 502 मेडिकल कालेजों में 257 निजी मेडिकल कालेज हैं और सरकारी 245 कालेज हैं।

सबसे अधिक मेडिकल कालेज 25 तमिलनाडु में 23 महाराष्ट्र में 18 कर्णाटक में हैं जबकि उत्तरप्रदेश और गुजरात में 17-17 कालेज और बिहार में मात्र छह मेडिकल कालेज हैं।

इसी तरह सबसे अधिक निजी मेडिकल कालेज 39 कर्नाटका में , 31 उत्तर प्रदेश में , 28 महाराष्ट्र में ,तमिलनाडु और केरल में 24 -24 कालेज हैं । बिहार में केवल चार कालेज ही हैं।

सूत्रों के अनुसार सबसे अधिक डाक्टर 158998 महाराष्ट्र में , 127848 डाक्टर तमिलनाडु में , 104794 डाक्टर कर्णाटक में एवं बिहार में 40649 डाक्टर हैं। छत्तीसगढ़ में केवल 7489 डाक्टर हैं। सबसे कम 801 डाक्टर नागालैंड में हैं।

Share it
Top