माल्या को भागने में सीबीआई अधिकारी की संलिप्तता नहीं

माल्या को भागने में सीबीआई अधिकारी की संलिप्तता नहीं

नई दिल्ली। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने शराब कारोबारी विजय माल्या को भगाने में जांच एजेंसी के एक संयुक्त निदेशक की संलिप्तता के कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों को तथ्यहीन एवं निराधार करार दिया है। सीबीआई प्रवक्ता ने शनिवार को मीडिया को जारी स्पष्टीकरण में श्री गांधी का नाम लिये बिना कहा कि कुछ लोगों द्वारा जांच एजेंसी के एक वरिष्ठ अधिकारी के खिलाफ आधारहीन आरोप लगाये गये हैं। प्रवक्ता ने कहा कि जांच एजेंसी की ओर से बार-बार यह स्पष्ट किया गया है कि विजय माल्या के खिलाफ 'लुकआउट सर्कुलरÓ (एलओसी) में बदलाव का फैसला सामूहिक प्रक्रिया का हिस्सा है, न कि उक्त अधिकारी का निर्णय। उन्होंने कहा कि इससे पहले भी कई बार कहा जा चुका है, एलओसी में बदलाव का फैसला इसलिए किया गया था कि माल्या को हिरासत में लेने और गिरफ्तार करने के पर्याप्त आधार नहीं थे। प्रवक्ता के अनुसार सीबीआई को पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले के आरोपी नीरव मोदी एवं मेहुल चोकसी के खिलाफ शिकायत दोनों के विदेश भाग जाने के करीब एक माह बाद मिली थी, इसलिए इन लोगों के विदेश भागने में सीबीआई के किसी अधिकारी की मिलीभगत का सवाल ही पैदा नहीं होता। उन्होंने कहा है कि बैंक से शिकायत मिलने के तत्काल बाद सीबीआई ने इस मामले में त्वरित कार्रवाई की थी। गौरतलब है कि श्री गांधी ने आज ट््वीट करके कहा कि सीबीआई के संयुक्त निदेशक ए.के. शर्मा ने 'एलओसीÓ को कमजोर करके माल्या को भागने में मदद की थी।

Share it
Top