विधानमंडल का विशेष अधिवेशन तत्काल बुलाया जाए: उद्धव ठाकरे

विधानमंडल का विशेष अधिवेशन तत्काल बुलाया जाए: उद्धव ठाकरे


मुंबई। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने सोमवार को मातोश्री पर शिवसेना विधायकों की बैठक के बाद कहा कि राज्य सरकार को विधानमंडल का विशेष अधिवेशन तत्काल बुलाना चाहिए और मराठा ही नहीं धनगर तथा मुस्लिम समाज के आरक्षण के बारे में निर्णय लेना चाहिए। बैठक के बाद शिवसेना नेताओं की प्रतिनिधिमंडल शाम को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मिलकर अपनी बात रखेगा है।

बैठक के बाद उद्धव ठाकरे ने कहा कि जिस तरीके से मराठा समाज का आंदोलन हर जगह हो रहा है, उसे देखते हुए इस मुद्दे पर तत्काल निर्णय लिया जाना चाहिए था। लेकिन राजनीति में जैसा कि हर बार होता है, जिस विषय पर निर्णय नहीं लेना रहता है, उसके लिए समिति गठित की जाती है और उसे कोर्ट में डाल दिया जाता है। मराठा आरक्षण के बारे में भी इसी तरह हुआ है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि मराठा आरक्षण को लेकर कोर्ट में जाने का कोई मतलब ही नहीं है। कोर्ट का काम कानून का क्रियान्वयन है, जबकि सरकार का काम कानून बनाना है। मराठा आरक्षण को लेकर कानून बनाना राज्य सरकार के ही काम का हिस्सा है इसलिए सरकार अब इस मामले को और अधिक तानने की बजाय विधानमंडल का विशेष अधिवेशन बुलाए। ताकि उसमें केवल मराठा समाज के लिए ही नहीं, धनगर, मुस्लिम व अन्य समाज के बारे में प्रस्ताव मंजूर करके केंद्र सरकार के पास भेजें।

उद्धव ने कहा कि जब अटल बिहारी बाजपेई प्रधानमंत्री थे, उस समय धनगर समाज के आरक्षण के लिए जोरदार आंदोलन हो रहा था। इसलिए खुद अटलजी ने सोलापुर जाकर धनगर समाज को आरक्षण का निर्णय लिए जाने का आश्वासन दिया था। आमतौर पर जिस समाज की ओर से जोरदार आंदोलन किया जाता है, उसकी आवाज सुनी जाती है। इसलिए जो समाज आरक्षण के लिए मांग कर चुके हैं, लेकिन इस समय आंदोलन नहीं कर रहे हैं, उनकी मांग पर भी विशेष अधिवेशन में आरक्षण का निर्णय लिया जाना चाहिए।


Share it
Share it
Share it
Top