आर्थिक परेशानी के बीच जेट एयरवेज के निदेशक विक्रम मेहता का इस्तीफा

आर्थिक परेशानी के बीच जेट एयरवेज के निदेशक विक्रम मेहता का इस्तीफा


नई दिल्ली। जेट एयरवेज के स्वतंत्र निदेशक विक्रम मेहता के इस्तीफे से यह लगने लगा है कि कंपनी विकट आर्थिक हालात से गुजर रही है। पिछले दो महीने से कंपनी ने अपने कर्मियों को वेतन का महज 25 फीसदी ही भुगतान किया है।

कंपनी के पायलट यूनियन नेशनल एविटर्स गिल्ड के प्रवक्ता थॉमस ने बताया कि कंपनी के कर्मी आर्थिक परेशानी को झेल रहे हैं। उधर, प्रबंधन इस समस्या के समाधान के लिए क्या सोच रही है, यह किसी को जानकारी नहीं है। थॉमस ने कहा कि शायद इस कंपनी के हालात भी विजय माल्या की कंपनी किंग फिशर की तरह ही ना हो जाए। कर्मियों को इसकी चिंता सता रही है। हालांकि मेहता के इस्तीफे के बारे में उन्होंने कहा कि इसके पीछे का कारण उन्हें पता नहीं है। हालांकि कंपनी के सूत्र बता रहे हैं कि कंपनी के प्रमोटर नरेश गोयल की ओर से कंपनी को उबारने के सारे प्रयास विफल हो गए हैं और कर्मी यह चाह रहे हैं कि जल्द से जल्द कोई दूसरी कंपनी इस कंपनी को खरीद ले।

हालांकि कंपनी की ओर से शेयर बाजार की जानकारी के मुताबिक मेहता ने व्यक्तिगत कारणों से अपना इस्तीफा सौंप दिया है। बता दें कि मेहता ब्रुकिंग्स इंडिया के भी कार्यकारी अध्यक्ष हैं।

उल्लेखनीय है कि नरेश गोयल की स्वामित्व वाली कंपनी जेट एयरवेज का घरेलू बाजार के कारोबार में 14.2 फीसदी की हिस्सेदारी है। पिछले जून की चौथाई में कंपनी ने स्टैंडएलोन घाटे की राशि 1,323 करोड़ रुपये की बताई थी। अभी तक कंपनी ने सितंबर चौथाई के परिणाम को घोषित ही नहीं कर पाई है। अॉडिटर ने इस परिणाम हस्ताक्षर करने से मना कर दिया था।

कंपनी को इस आर्थिक परेशानी से उबारने के लिए नरेश गोयल ने टाटा कंपनी से बात की थी लेकिन टाटा ने गोयल के साथ काम करने से मना कर दिया था। इस बीच कंपनी के शेयर की हालत भी ठीक नहीं है। रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें


Share it
Top