सोना 510 रुपये टूटा, चांदी 1600 रुपये लुढ़की

सोना 510 रुपये टूटा, चांदी 1600 रुपये लुढ़की

नयी दिल्ली। वैश्विक स्तर पर कीमती धातुओं में बीते सप्ताह की बिकवाली और घरेलू स्तर पर मांग कमजोर पडऩे के दबाव में दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 510 रुपये टूटकर 28900 रुपये प्रति दस ग्राम पर रहा और चांदी 1600 रुपये लुढ़ककर 37400 रुपये प्रति किलोग्राम बोली गयी।
समीक्षाधीन अवधि में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमती धातुओं विशेषकर सोना और चांदी पर भारी दबाव देखा गया। सोमवार को सोना हाजिर 1236.40 डॉलर प्रति औंस पर था जो सप्ताहांत पपर 11.65 डॉलर की गिरावट लेकर 1224.75 डॉलर प्रति औंस पर रहा। इसी तरह से अमेरिका सोना वायदा पर भी भारी दबाव देखा गया। सप्ताह के प्रारंभ में यह 1235.60 डॉलर प्रति औंस पर था जो शुक्रवार को कारोबार बंद होने पर 23.70 डॉलर गिरकर 1211.90 डॉलर प्रति औंस पर रहा।
इस दौरान सफेद धातु में भी बिकवाली हुयी। सोमवार को चांदी 16.53 डॉलर प्रति औंस पर था जो सप्ताहांत पर 0.96 डॉलर की गिरावट लेकर 15.57 डॉलर प्रति औंस पर रही।
विश्लेषकों का कहना है कि वैश्विक स्तर दुनिया की प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर में आयी तेजी से सोना पर दबाव बना है। उनका कहना है कि अगले सप्ताह भी कीमती धातुओं पर दबाव बने रहने की संभावना है।
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमती धातुओं के कमजोर पडऩे का असर घरेलू बाजार पर भी दिखा जहां दोनों प्रमुख कीमती धातुओं में भारी गिरावट दर्ज की गयी है। समीक्षाधीन अवधि में दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना स्टैंडर्ड 510 रुपये टूटकर 28900 रुपये प्रति दस ग्राम पर रहा। इसी तरह से सोना बिटुर भी 510 रुपये की गिरावट लेकर 28750 रुपये प्रति दस ग्राम रहा। हालांकि इस गिरावट के बावजूद गिन्नी में कोई बदलाव नहीं हुआ है और यह 24400 रुपये प्रति आठ ग्राम पर टिकी रही।
पीली धातु की तरह सफेद धातु भी गिरावट में रही। इस दौरान चांदी 1600 रुपये टूटकर 37400 रुपये प्रति किलोग्राम बोली गयी। चांदी वायदा 2115 रुपये फिसलकर 36230 रुपये प्रति किलोग्राम पर रही। चांदी में हुयी गिरावट के कारण सिक्का लिवाली और बिकवाली दो दो हजार रुपये प्रति सैकड़ा फिसल गया। संप्ताहांत पर सिक्का लिवाली 71हजार रुपये और बिकवाली 72हजार रुपये प्रति सैकड़ा बोला गया।
कारोबारियों का कहना है कि उत्तर भारत में आम तौर पर वैवाहिक सीजन समाप्त हो चुका है । इसके कारण मांग पर भी असर पड़ा। वैश्विक स्तर पर हो रहे उठापटक और घरेलू स्तर पर मांग कमजोर पडऩे से दोनों कीमती धातुओं में गिरावट का रूख देखा गया है। अगले सप्ताह भ इनकी कीमतों में कोई विशेष सुधार की संभावना नहीं दिख रही है।


Tags:    gold 
Share it
Top