एसईजेड नीति की समीक्षा समिति में ईपीसीईएस अध्यक्ष शामिल

एसईजेड नीति की समीक्षा समिति में ईपीसीईएस अध्यक्ष शामिल

नई दिल्ली। सरकार ने निर्यातोन्मुखी इकाइयों (ईओयू) और विशेष आर्थिक क्षेत्रों (सेज) से संबंधित निर्यात संवर्धन परिषद (ईपीसीईएस) के कार्यवाहक अध्यक्ष विनय शर्मा को देश की सेज नीति के अध्ययन के लिए गठित समूह का सदस्य नियुक्त किया है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा गठित इस समूह की 22 जून को बैठक होगी, जिसमें वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु भी शामिल होंगे। डॉ. शर्मा ने समूह में शामिल किये जाने का स्वागत करते हुए कहा कि परिषद देश में कारोबार को बढ़ावा देने से संबंधित प्रमुख संगठन है और इसने लघु, मध्यम और बड़ी कंपिनयों के लिए बेहतर कारोबारी माहौल बनाने में अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि देश तेजी से आगे बढ़ रहा है, किंतु एशिया के अन्य राष्ट्रों के भी तेजी से अपना कारोबार फैलाने से नये वैश्विक आर्थिक परिदृश्य के अनुरूप तालमेल बिठाने की जरूरत है और इसके लिए नीति एवं कायदे-कानूनों की समीक्षा करने की अत्यंत आवश्यकता है। डॉ. शर्मा ने उम्मीद जताई है कि ईपीसीईएस विश्व व्यापार संगठन के मानकों के अनुरूप सिफारिशें देकर अपनी भूमिका को चरितार्थ करेगा। सेज सदस्य समिति की अध्यक्षता भारत फार्ज के प्रमुख बाबा कल्याणी कर रहे हैं। डॉ. शर्मा ने बताया कि श्री प्रभु की अध्यक्षता में 22 जून को होने वाली बैठक में व्यापक विचार विमर्श कर आगे की रणनीति तय की जायेगी। देश में कुल 223 एसईजेड चालू हैं, जिनमें 5146 कंपनियां हैं। इन एसईजेड से 2016-17 की तुलना में 2017-18 में कारोबार में 19 फीसदी की वृद्धि हुई है।

Share it
Top