शेयर बाजार ने बनाया नया रिकॉर्ड

शेयर बाजार ने बनाया नया रिकॉर्ड

मुंबई। विदेशी बाजारों से मिले सकारात्मक संकेतों के बीच बैंकिंग एवं वित्तीय तथा वाहन क्षेत्र की कंपनियों में जबरदस्त लिवाली से मंगलवार को घरेलू शेयर बाजार नये रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गये। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 369.80 अंक यानी 0.95 प्रतिशत की छलाँग लगाकर 39,275.64 अंक के रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ। सोमवार की तुलना में 134.46 अंक की मजबूती के साथ खुलने के बाद बीच कारोबार में एक समय इसने 39,364.34 अंक की रिकॉर्ड ऊँचाई को भी छुआ। इसका दिवस का निचला स्तर 39,038.81 अंक रहा। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 35.85 अंक की बढ़त में 11,736.20 अंक पर खुला और कारोबार की समाप्ति से पहले 11,810.95 अंक के अब तक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गया। अंत में यह 96.80 अंक यानी 0.83 फीसदी चढ़कर 11,787.15 अंक पर बंद हुआ। इसका दिवस का न्यूनतम स्तर 11,731.55 अंक दर्ज किया गया। मझौली और छोटी कंपनियों में निवेशकों का विश्वास अपेक्षाकृत कम रहा। बीएसई का मिडकैप 0.12 प्रतिशत चढ़कर 15,521 अंक पर और स्मॉलकैप 0.37 प्रतिशत की बढ़त में 15,171.71 अंक पर पहुँच गया। बाजार में लिवाली का जोर इस कदर रहा कि सेंसेक्स की 30 में से 27 कंपनियों के शेयर हरे निशान में रहे। इंडसइंड बैंक में सर्वाधिक चार प्रतिशत की तेजी रही। आईसीआईसीआई बैंक के शेयर साढ़े तीन फीसदी और ओएनजीसी के ढाई फीसदी चढ़े। पावर ग्रिड में आधा फीसदी से अधिक की गिरावट रही। निफ्टी की 50 में से 36 कंपनियाँ बढ़त में और 13 में गिरावट में रही जबकि एक के शेयर अपरिवर्तित बंद हुये। बीएसई के 20 समूहों में रियलिटी को छोड़कर अन्य 19 में तेजी दर्ज की गयी। बैंङ्क्षकग समूह का सूचकांक एक प्रतिशत से ज्यादा और टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद का 1.16 प्रतिशत चढ़ा। बीएसई में कुल 2,724 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1,291 के शेयरों में लिवाली और 1,279 में बिकवाली का जोर रहा जबकि 154 के शेयर दिन भर के उतार-चढ़ाव के बाद अंतत: अपरिवर्तित रहे। चीनी और अमेरिका से मजबूत आर्थिक आँकड़े आने तथा दोनों महाशक्तियों के बीच व्यापार युद्ध को लेकर वार्ता में प्रगति से अधिकतर प्रमुख विदेशी बाजारों में तेजी रही। एशिया में जापान का निक्की 0.24 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.26 प्रतिशत, हांगकांग का हैंगसेंग 1.07 फीसदी और चीन का शंघाई कंपोजिट 2.39 फीसदी की बढ़त में बंद हुआ। यूरोप में शुरुआती कारोबार में ब्रिटेन का एफटीएसई 0.22 प्रतिशत और जर्मनी का डैक्स 0.57 प्रतिशत चढ़ा। बीएसई के समूहों में बैंकिंग का सूचकांक 1.62 प्रतिशत, टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद का 1.16, वित्त का 1.08, दूरसंचार का 1.03 और पूँजीगत वस्तुओं का 0.98 प्रतिशत चढ़ा। तेल एवं गैस, सीडीजीएंडएस, पीएसयू, बुनियादी वस्तुओं, ऊर्जा, एफएमसीजी, स्वास्थ्य, इंडस्ट्रियल्स, आईटी, टेक, यूटिलिटीज, ऑटो, धातु और बिजली समूहों में भी तेजी रही। रियलिटी के शेयर 0.86 प्रतिशत लुढ़क गये। सेंसेक्स की कंपनियों में इंडसइंड बैंक के शेयर सर्वाधिक 3.96 प्रतिशत मजबूत हुये। आईसीआईसीआई बैंक में 3.58 प्रतिशत, ओएनजीसी में 2.49, एलएंडटी में 1.82, मारुति सुजुकी में 1.74, एशियन पेंट््स में 1.71, बजाज ऑटो में 1.26, हीरो मोटोकॉर्प में 1.20, मङ्क्षहद्रा एंड मङ्क्षहद्रा में 1.14, कोटक मङ्क्षहद्रा बैंक में 1.08 और टीसीएस में 1.06 प्रतिशत की तेजी रही। एक्सिस बैंक के शेयर 0.98 फीसदी, ङ्क्षहदुस्तान यूनिलिवर के 0.97, सनफार्मा के 0.84, एचडीएफसी के 0.82, एचडीएफसी के 0.69, आईटीसी के 0.66, एनटीपीसी के 0.48, कोल इंडिया के 0.44, यस बैंक और रिलायंस इंडस्ट्रीज दोनों के 0.41, भारती एयरटेल के 0.35, बजाज फाइनेंस के 0.29, वेदांता के 0.2, एचसीएल टेक्नोलॉजीज के 0.15, टाटा स्टील के 0.12 और भारतीय स्टेट बैंक के 0.05 प्रतिशत चढ़े। पावर ग्रिड में सबसे ज्यादा 0.63 प्रतिशत, इंफोसिस में 0.39 और टाटा मोटर्स में 0.22 प्रतिशत की गिरावट रही।

Share it
Top