ऐतिहासिक स्तर तक लुढ़कने के बाद रुपये ने की वापसी


मुंबई । घरेलू शेयर बाजार की तेजी के दम पर अंतरबैंकिग मुद्रा बाजार में रुपया दो दिन की गिरावट से उबरता हुआ बुधवार को 51 पैसे की मजबूत बढ़त के साथ 72.18 रुपये प्रति डॉलर पर पहुँच गया।भारतीय मुद्रा मंगलवार को 24 पैसे लुढ़ककर 72.69 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुई थी जो अब तक का न्यूनतम बंद भाव है।

रुपये की शुरुआत कमजोर रही और यह 14 पैसे टूटकर 72.83 रुपये प्रति डॉलर पर खुला। कच्चे तेल की कीमतों में तेजी और विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) के पूँजी बाजार से पैसा निकालने से आरंभ में यह दबाव में रहा। दोपहर से पहले ही एक समय यह 72.91 रुपये प्रति डॉलर के ऐतिहासिक निचले स्तर तक लुढ़क गया था।

दोपहर बाद शेयर बाजर में लिवाली तेज रहने से मुद्रा बाजार में भी धारणा मजबूत हुई और रुपया 71.86 रुपये प्रति डॉलर के उच्चतम स्तर तक चढ़ गया। इस प्रकार आज इसमें भारी उतार-चढ़ाव देखा गया। कारोबार की समाप्ति पर यह मंगलवार की तुलना में 51 पैसे ऊपर 72.18 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के 305 अंक की बढ़त में बंद होने और दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं के बास्केट में डॉलर में मामूली गिरावट से रुपये को समर्थन मिला। हालाँकि, एफपीआई ने बाजार से 18.06 करोड़ डॉलर की शुद्ध निकासी की। लंदन का ब्रेंट क्रूड वायदा 79.66 डॉलर प्रति बैरल के मई 2018 के बाद के उच्चतम स्तर पर पहुँच गया जिसने रुपये की तेजी पर लगाम का काम किया।


Share it
Share it
Share it
Top