ईंधन, आवास महँगे होने से बढ़ी खुदरा मुद्रास्फीति

ईंधन, आवास महँगे होने से बढ़ी खुदरा मुद्रास्फीति

नयी दिल्ली । ईंधन तथा आवास महँगे होने से जून में उपभोक्ता मूल्य आधारित मुद्रास्फीति की दर यानी खुदरा महँगाई बढ़कर पाँच प्रतिशत पर पहुँच गयी।खुदरा महँगाई लगातार तीसरे महीने बढ़ी है और यह इसका इस साल जनवरी (5.07 प्रतिशत) के बाद का उच्चतम स्तर है। खास बात यह है कि खाद्य पदार्थों की महँगाई दर में कमी के बावजूद जून में इसका ग्राफ ऊपर गया है जो सरकार के लिए चिंता की बात हो सकती है। खाद्य खुदरा महँगाई दर 2.91 प्रतिशत दर्ज की गयी है जो मई में 3.10 प्रतिशत रही थी।
पिछले साल जून में सामान्य खुदरा महँगाई दर 1.46 प्रतिशत और इस साल मई में 4.87 प्रतिशत रही थी। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा आज जारी आँकड़ों के अनुसार, पिछले साल जून की तुलना में इस साल जून में आवास 8.45 प्रतिशत महँगे हुये। ईंधन तथा बिजली खंड की महँगाई दर 7.14 प्रतिशत रही। मुख्य रूप से एक साल पहले की तुलना में पेट्रोल तथा डीजल की कीमतों में तेज वृद्धि के कारण इस खंड की महँगाई दर ज्यादा रही है।
खाद्य पदार्थों के खंड में फलों एवं सब्जियों की कीमतों में तेज बढ़ोतरी के बावजूद दालों और चीनी तथा कंफेक्शनरी उत्पादों की कीमतों में गिरावट और अन्य उत्पादों में अपेक्षाकृत कम वृद्धि के कारण खुदरा खाद्य महँगाई में नरमी आयी है।
फलों की महँगाई दर 10.13 प्रतिशत और सब्जियों की 7.80 प्रतिशत रही। पिछले साल जून के मुकाबले अंडे 5.85 प्रतिशत महँगे हुये। खाने-पीने के तैयार एवं पैकेज्ड सामानों की महँगाई दर 4.83 फीसदी रही। अनाजों की महँगाई दर 2.70 फीसदी, मांस एवं मछलियों की 2.41 प्रतिशत, तेल एवं वसा उत्पादों की 2.62 प्रतिशत और मसालों की 2.37 प्रतिशत रही।
वहीं, एक साल पहले की तुलना में दालें तथा उनके उत्पाद 10.87 प्रतिशत सस्ते हुये। चीनी तथा कंफेक्शनरी उत्पादों के दाम 7.11 प्रतिशत गिरे। अन्य खंडों में कपड़ों की महँगाई दर 5.78 फीसदी और फुटवीयर की 4.87 प्रतिशत रही। घरेलू सामान एवं सेवाओं की खुदरा महँगाई 5.18 प्रतिशत, स्वास्थ्य सेवाओं की 6.07 प्रतिशत, परिवहन एवं संचार सेवाओं की 6.18 प्रतिशत, मनोरंजन सुविधाओं की 5.24 प्रतिशत और शिक्षा की 5.83 प्रतिशत रही।

Share it
Top