गुप्त नवरात्रा शुरू, उपवास के संकल्प के साथ हुई घट स्थापना

गुप्त नवरात्रा शुरू, उपवास के संकल्प के साथ हुई घट स्थापना


जोधपुर। गुप्त नवरात्रा शुरू हो गये हैं। 9 दिनों तक उपवास का संकल्प लेकर पहले दिन घरों में घट स्थापना की गई। गुप्त नवरात्रि के दौरान तांत्रिक और अघोरी अपनी मनोकामना पूरी करने और शक्ति हासिल करने के लिए ख़ास विधि से मां की पूजा करते हैं। इस दौरान तांत्रिक गुप्त तरीके से सबकी नजरों से बचाकर मां की पूजा करते हैं.।

गुप्त नवरात्रि में मां दुर्गा के दसों रूप (महाविद्या मां काली, तारा देवी, त्रिपुर सुंदरी, भुवनेश्वरी, माता छिन्नमस्ता, त्रिपुर भैरवी, मां ध्रूमावती, माता बगलामुखी, मातंगी और कमला देवी) की विधिवत पूजा अर्चना की जा रही है। प्रत्येक नवरात्रि का प्रारंभ शुक्ल पक्ष की प्रतिप्रदा याानि प्रथमा से लेकर नवमी तक माना जाता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार सालभर में 4 नवरात्र आते हैं। शारदीय और चैत्र नवरात्र के अलावा दो गुप्त नवरात्र भी आते हैं। पहला गुप्त नवरात्र माघ महीने के शुक्ल पक्ष में जबकि दूसरा आषाढ़ महीने के शुक्ल पक्ष में आती है। आषाढ़ माह में 3 जुलाई आज से गुप्त नवरात्र प्रारम्भ हो गये हैं, जो 10 जुलाई तक चलेंगे। जिस प्रकार नवरात्रि में देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है ठीक उसी प्रकार गुप्त नवरात्र में दस महाविद्याओं की पूजा अर्चना की जाती है। नौ दिनों तक चलने वाली गुप्त नवरात्रि में मां के विभिन्न स्वरूपों की पूजा की जाती है।

Share it
Top