भगवान शिव को बहुत ​प्रिय है ये मंत्र, जाप करने से होता है ये लाभ

भगवान शिव को बहुत ​प्रिय है ये मंत्र, जाप करने से होता है ये लाभ

'भगवान शिव बहुत ही भोले हैं और वे आसानी से प्रसन्न हो जाते हैं, जिस पर भोलेनाथ की कृपा होती है उस व्यक्ति को संसार की कोई भी बाधा परेशान नहीं कर सकती है। शिव आराधना करने से व्यक्ति के रोग-शोक दूर होते हैं, एक खास मंत्र ऐसा है जो शिव को बहुत प्रिय है और ये माना जाता है कि इस मंत्र का जाप करने से व्यक्ति को मृत्यु के भय से मुक्ति मिलती है। अगर व्यक्ति प्रतिदिन इस मंत्र का जाप करता है तो इससे वह भयमुक्त रहता है। आइए आपको बताते हैं इस मंत्र के बारे में ..........

डेटिंग करते समय लड़कियों को इन राशि वाले लड़कों से रहना चाहिए सावधान, धोखा देने में होते हैं माहिर

कर्पूरगौरं मंत्र :-

कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारम्।

सदा बसन्तं हृदयारबिन्दे भबं भवानीसहितं नमामि।।

नवरात्र के दिनों में अगर आपको मिलें ये संकेत तो समझ लें जल्द ही खुलने वाले हैं आपकी बंद किस्मत के दरवाजे

मंत्र का अर्थ :-

कर्पूरगौरं- कर्पूर के समान गौर वर्ण वाले।

करुणावतारं- करुणा के जो साक्षात् अवतार हैं।

संसारसारं- समस्त सृष्टि के जो सार हैं।

भुजगेंद्रहारम्- इस शब्द का अर्थ है जो सांप को हार के रूप में धारण करते हैं।

सदा वसतं हृदयाविन्दे भवंभावनी सहितं नमामि- इसका अर्थ है कि जो शिव, पार्वती के साथ सदैव मेरे हृदय में निवास करते हैं, उनको मेरा नमन है।

मंत्र का पूरा अर्थ-

जो कर्पूर जैसे गौर वर्ण वाले हैं, करुणा के अवतार हैं, संसार के सार हैं और भुजंगों का हार धारण करते हैं, वे भगवान शिव माता भवानी सहित मेरे ह्रदय में सदैव निवास करें और उन्हें मेरा नमन है।

Share it
Top