इस कारण से मस्तक पर लगाया जाता है विभूति का तिलक..

इस कारण से मस्तक पर लगाया जाता है विभूति का तिलक..

हिंदू धर्म में माथे पर ​रोली का तिलक लगाने के साथ ही विभूति का तिलक भी लगाया जाता है। आपने भी देखा होगा कि जब आपके घर में पूजा या हवन होता है तो उसकी राख को मस्तक पर लगाते हैं। विभूति या राख से मस्तक पर तिलक क्यों लगाया जाता है, आइए जानते हैं इसके बारे में..............

हवन करने से जो राख बनती है वह औषधीय गुणों से भरपूर होती है क्योंकि हवन में घी के साथ सामग्री भी डाली जाती है । जिसमें कई प्रकार के मेवे और अन्य चीजें होती हैं, जब हवन में ये सभी सामग्रियां मिलती हैं तो उसके धुंए के साथ ही राख भी गुणकारी हो जाती है। इसी कारण हवन की राख को मस्तक पर लगाया जाता है।

शास्त्रों के अनुसार जब विभूति को मस्तक पर लगाया जाता है तो इससे व्यक्ति के अंदर की नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। जो उसकी मानसिक उथल - पुथल को दूर कर मन को शांत करती हैं।

भोलेनाथ को विभूति प्रिय होने के कारण कुछ लोग भी इसे मस्तक पर लगाते हैं जिससे भोलेनाथ की कृपा सदा उन पर बनी रहे।

Share it
Top