अनमोल वचन

अनमोल वचन

यदि आप अपनी सफलता को सुनिश्चित करना चाहते हैं तो आपको अपने लख्य के प्रति निष्ठावान होना चाहिए। यदि लक्ष्य में निष्ठा नहीं होगी तो सफलता भी नहीं मिलेगी। आपने जिस कार्य को पूर्ण करने का निश्चय कर लिया है, उसे क्षणिक असफलता के कारण छोडे नहीं। यह मानकर चलें कि जब कोई काम करते हैं तो उसके मार्ग में बाधाएं भी आयेंगी। बाधाओं से घबराकर किसी काम को छोड देना कायरता है। जीवन में अनेक चुनौतियां आती हैं और सभी के जीवन में आती हैं। हर कार्य अपने साथ कई चुनौतियां लेकर आता है, इसलिए चुनौतियों से भयभीत नहीं होना, उनका सामना करना है, जो चुनौतियों से टकराते हैं, सफल भी वे ही होते हैं, अपने काम को पूरा कर लक्ष्य को पा लेते हैं। चुनौतियों से लडते हुए लिंकन एक दिन अमेरिका के राष्ट्रपति बन गये। गीता का वचन है 'फलासक्ति छोडो और कर्म करो, आशारहित होकर कर्म करो, निष्काम होकर कार्य करो। गीता की इस ध्वनि को भुलाईये मत। जो कर्म छोडता है, वह गिरता है। कर्म करते हुए जो फल में आसक्त नहीं होता, वह शिखरों को छूता है। जो अपने लक्ष्य के प्रति निष्ठावान होते हैं, वे अपना काम पूरा करते हैं, पीछे नहीं हटते, जिसकी लक्ष्य में निष्ठा होती है, वह कभी नहीं हारता।

Share it
Share it
Share it
Top