अनमोल वचन

अनमोल वचन

जीवन को प्रेममय बनाओ, दिन को प्रेम से आरम्भ करो, दिन को प्रेम से भरो, प्रेम से ही दिन को व्यतीत करो और प्रेम से ही दिन को समाप्त करो, परन्तु वह प्रेम दीन दुखियों के लिए मन में उपजा हो, असहाय लोगों की सहायता के लिए उठे हुए हाथों में हो, अभावग्रस्तों और जरूरतमंदों की आवश्यकताओं को पूरा करने की भावनाओं में छिपा हो और सबसे ऊपर जगत नियंता, इस सकल ब्रह्मांड के रचियता परमपिता परमात्मा के लिए हमारी आत्मा में पैदा हुआ हो। ऐसा निश्छल प्रेम ही परमात्मा तक पहुंचने के मार्ग को निष्कंटक बनायेगा। आप निश्चय ही जन्म-मरण से मुक्त हो जायेंगे और आपकी जीवन मुक्त आत्मा का शरीर दिव्य ज्योति शक्ति और आनन्द से परिपूर्ण हो जायेगा। अपने इस भौतिक शरीर को त्यागने पर भी भूमि के प्रत्येक कण में आपकी ज्योति विद्यमान रहेगी और भविष्य में जिज्ञासुओं को आध्यात्मिक उजाला प्रदान करती रहेगी। इस वेलेंटाइन दिवस पर यही संदेश है कि प्रेम सबसे करो, घृणा, शत्रुता किसी से नहीं।

Share it
Share it
Share it
Top