अनमोल वचन

अनमोल वचन

सकारात्मक चिंतन करने वाला व्यक्ति समस्याओं के बारे में नहीं, बल्कि उनके समाधान के बारे में सोचता है। वह समस्याओं के कारणों को दोहराने पर नहीं, बल्कि समाधान की सम्भावनाओं को विकसित करने में विश्वास रखता है। वह अपनी सफलता को क्षमताओं, योग्यताओं और कौशल के बारे में सोचता है, जो उसे संघर्षों को स्वीकारने, सामना करने तथा समाधान करने के लिये आवश्यक आधार प्रदान करते हैं। सकारात्मक चिंतन से आत्मविश्वास बढता है और आत्म विश्वास से कुछ कर गुजरने का साहस पैदा होता है। इसी साहस से उत्पन्न बल से व्यक्ति कठिन समस्या को सुलझा लेता है। सकारात्मक चिंतन से ही सुख और सफलता प्राप्त होती है। सभी चाहते हैं कि वे सकारात्मक ही बनें और सकारात्मक ही सोचें, किन्तु ऐसा कर पाना सभी के लिये सम्भव नहीं हो पाता, क्योंकि आज समाज में इतनी नकारात्मकता फैली हुई है, जिससे बच पाना सरल नहीं है। आवश्यकता केवल नकारात्मकता से बचने की ही नहीं, बल्कि सकारात्मकता से जुडने की भी है, अन्यथा हम नकारात्मकता के प्रभाव से स्वयं को बचा नहीं पा सकते और यह नकारात्मकता का प्रभाव हमें सुख की अनुभूति नहीं होने दे सकता।

Share it
Top