अनमोल वचन

अनमोल वचन

भारतीय जीवन दर्शन का एक मंत्र है 'सादा जीवन उच्च विचार'। देखने सुनने में यह बडा सरल लगता है, परन्तु उतना ही कठिन है। जीवन में अधिकांश बुराईयां इस मंत्र की अवहेलना से आती हैं। सादगी और सात्विकता का चोली दामन का साथ है। भारतीय संस्कृति गुणों की खान है। हमारे यहां सदा ही इस बात पर जोर दिया जाता है कि मनुष्य हर प्रकार से शुद्ध रहे, पवित्र रहे, संयम से जीवन जीये, तप और साधना से जीवन को चमकाये। भगवान महावीर ने यहां तक कहा है कि कठोर साधना से आत्मा ही परमात्मा बन सकती है। गुणी मनुष्य सार को ग्रहण करते हैं और नि:सार को छोड देते हैं। 'सार सार को ग्रहि रहे थोथा देय उडाय'। जिस व्यक्ति की कथनी और करनी में अंतर नहीं होता, वही समाज में आदर योग्य बनता है। गुण की सब जगह पूजा होती है। आज के युग में इस ओर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। आज मानव मूल्यों का पतन हो रहा है, भौतिक मूल्य चारों ओर छा गये हैं। यही कारण है नाना प्रकार की विकृतियों से मानव समाज और राष्ट्र आक्रान्त हो गया है।

Share it
Top