अनमोल वचन

अनमोल वचन

यह सही है कि पैसा वह साधन है, जो व्यक्ति के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, परन्तु पैसे की सार्थकता तभी है, जब उसका प्रयोग करने वाले के पास सद्बुद्धि एवं सद्भावनाएं हों, अन्यथा यही पैसा कई प्रकार की बुराईयों को जन्म देकर पतन की राह पर ले जाता है। पैसे का अनावश्यक गुमान मनुष्य में अहंकार पैदा करता है और उसे अनजाने दुर्भाग्य की राह पर ले जाकर खडा कर देता है। वही सम्पदा का सार्थक उपयोग मनुष्य को परिष्कृत बनाता है और समाज के लिये उपयोगी भी। पैसा एक प्रकार की ऊर्जा ही है, जो हमारे भीतर की साहसिक प्रवृत्ति को उकसाती है। यह ऊर्जा सकारात्मक अथवा नकारात्मक भी हो सकती है। इसलिए मनुष्य को पैसा पाने के बाद सतर्क हो जाना चाहिए। यदि मनुष्य पैसे का महत्व समझते हुए उसका सदुपयोग करना सीख जाता है तो उसे अहंकार नहीं आता। अत: इसकेा जरूरत या साधन मानकर चला जाये तो इसकी ऊर्जा से हमारा अन्तस भी रोशन हो सकता है।

Share it
Top