अनमोल वचन

अनमोल वचन

बुद्धि क्या है? इसके उत्तर में ऐसा कहा जा सकता है कि यह तिकडमबाजी, जोड-तोड, गुणा-भाग से कुछ भी हथिया लेने का नाम नहीं है। तिकडमबाजी से तिकडम करके उल्टी-सीधी चीजें पाई जा सकती हैं, परन्तु इसे बुद्धिमानी नहीं कहा जा सकता। वर्तमान परिस्थिति में उसे ही बुद्धिमान माना जाने लगा है, जो सफलता पाने के लिये तिकडम करता है, उल्टे-सीधे हथकंडे अपनाता है। आज के परिवेश में जो दूसरों को जितना मूर्ख बना सकता है, चकमा दे सकता है, झांसा दे सकता है और कुतर्क करके गलत को सही साबित कर सकता है, उसे ही बुद्धिमान कहा जाने लगा है। बुद्धिमान होने का अर्थ कुतर्क करना नहीं, विश्लेषण, विचार और समझदारी इन तीनों के संयोग और सम्मिश्रण को ही बुद्धि की संज्ञा दी जाती है। बुद्धिमान वही है, जो इन तीनों का समुचित उपयोग करना जाने, समझे और सीखे। बौद्धिक क्षमता इन्हीं तीनों की सार्थक उपयोगिता पर निर्भर करती है, जो ऐसा करता है, वही बुद्धिमान है।

Share it
Top