अनमोल वचन

अनमोल वचन

सफलता के मार्ग में बहुत सी बाधाएं होती हैं, जिनको जानना, समझना, स्वीकारना और उन्हें दूर करना आवश्यक होता है। अधिकांश लोग अपनी असफलताओं को अपना भाग्य मानकर स्वीकार कर लेते हैं। उनके सारे प्रयास उस असफलता के साथ ही रूक जाते हैं, अपनी असफलता से निराश, हताश हो जाते हैं। इस हताशा और निराशा से जन्म होता है नकारात्मकता का, ऐसी दशा में व्यक्ति प्राय: अपनी असफलताओं के बारे में तथा उसके नकारात्मक परिणामों के बारे सोच-सोचकर अपने आपको अधिक दुर्बल बना लेता है। इनमें से अधिकांश वे होते हैं जो इस कारण अपनी असफलता स्वीकार कर लेते हैं क्योंकि वे संघर्ष करना नहीं चाहते। वे चाहते हैं कि उनके थोडे बहुत प्रयासों से ही मनचाही सफलता मिल जाये और यदि ऐसा नहीं होता तो इसे वे अपना भाग्य समझकर स्वीकार कर लेते हैं। दूसरी ओर वे लोग होते हैं, जो प्रयास तो बहुत करते हैं, परन्तु उनकी दिशा सही नहीं होती, किन्तु सफलता तो तभी प्राप्त होगी, जब प्रयास सही दिशा में किये जायेंगे।

Share it
Top