अनमोल वचन

अनमोल वचन

शास्त्रों में चार पुरूषार्थों का वर्णन है धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष। कुछ विद्वानों का मत है कि धर्म से मोक्ष की प्राप्ति होती है और अर्थ से काम सधता है। मनुष्य के लिये श्रेयष्कर है कि धर्म मार्ग पर चलते हुए अर्थोंपार्जन करें। इस प्रकार के प्राप्त धन का उपयोग अपनी कामनाओं की पूर्ति के लिये करेंगे तो सफलता मिलेगी। यदि धन का सदुपयोग ईश्वर की सृष्टि को सुन्दर बनाने के लिये करेंगे तो मोक्ष प्राप्त होगा। ईश्वर की यह सृष्टि रहने योग्य बनी रहे, आदमी एक-दूसरे पर विश्वास करे और कभी भी किसी से विश्वासघ्घात न करे, यदि वह सम्भव हो जाये तो कह सकते हैं कि धरती पर स्वर्ग सम्भव है। धन जिसे लक्ष्मी भी कहा गया है, वह विकास की ओर बढने का एक माध्यम है। लक्ष्मी को माता समझें और उसका सम्मान करें। उसे अपने जीवन को विकसित तथा सामथ्र्यवान बनाने के लिये उपयोग करें, कि न भोग विलास के लिये। आवश्यकतानुसार व्यय करना, उपयोगी कार्यों में धन लगाना, नीतिपूर्वक श्रम तथा न्याय से धनोपार्जन करना, क्षमता के अनुसार खर्च करना, आर्थिक सन्तुलन बनाये रखना ही लक्ष्मी का सम्मान है।

Share it
Top