अनमोल वचन

अनमोल वचन

लोग अतीत को भुला देते हैं, अतीत व्यक्ति को कभी भी नहीं भुलाता, हर पल, हर क्षण उसके साथ जुडा होता है। हमारा अतीत ही यह निर्धारित करता है कि हमारा भविष्य कैसा होगा, हमारा वर्तमान कैसा होगा। यदि किसी को भी अपने भविष्य की चिंता है तो उसे अपने वर्तमान को सुधारना चाहिए, क्योंकि बाद में वही अतीत बन जायेगा और भविष्य को निर्धारित करने में अहम भूमिका निभायेगा। अतीत का यह खेल केवल एक जन्म का नहीं होता, बल्कि इसके साथ जन्म-जन्मान्तर से भी जुडा होता है। इसी कारण हर व्यक्ति दूसरे व्यक्ति से भिन्न है, क्योंकि एक का अतीत दूसरे के अतीत से नहीं मिलता, हमारे अतीत में किये गये कर्मों के परिणाम स्वरूप ही हमें जन्म मिलता है, हमारे जीवन की दिशा निर्धारित होती है। उसी के अनुसार हमारा जीवन चक्र चलता है। अतीत में किये गये शुभ-अशुभ कर्मों के आधार पर ही हमारे जीवन में ग्रह नक्षत्र अपना प्रभाव डालते हैं और जन्म कुंडली में यथा स्थान बैठ जाते हैं और उन्हीं के आधार पर जीवन में छोटी-बडी घटनाएं घटित होती रहती हैं। अब अतीत तो हमारे वश में नहीं है, परन्तु वर्तमान में तो शुभ कर्म करना हमारे वश में है, ताकि भविष्य सुखमय बन सके। " रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top