दलितों के 150 परिवार अकाली दल में शामिल

दलितों के 150 परिवार अकाली दल में शामिल

शाहकोट । पंजाब में जालंधर के शाहकोट विधानसभा चुनाव से पूर्व कांग्रेस तथा आम आदमी पार्टी से जुड़े लगभग 150 दलित परिवार आज शिरोमणि अकाली दल में शामिल हो गए।
पूर्व मंत्री और अकाली दल अनुसूचित जाति शाखा के प्रधान गुलजार सिंह राणीके ने आज शाहकोट में चुनाव प्रचार दौरान कहा कि कांग्रेस सरकार ने दलितों से संबंधित कई कल्याणकारी योजनाओं को बंद कर दिया है जिससे निराश होकर दलित अकाली दल में शामिल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि आगामी कुछ दिनों में और भी कई दलित परिवारों का अकाली दल में शामिल होने की संभावना है।
श्री राणीके ने कहा कि झिरी गाँव में हुए एक समागम दौरान 32 दलित परिवार कांग्रेस को छोड़कर अकाली दल में शामिल हो गए, इसी प्रकार कलार गाँव में 50 कांग्रेसी परिवारों ने अकाली दल का हाथ थाम लिया है। उन्होंने कहा कि जब से पंजाब में कांग्रेस की सरकार बनी है, दलितों के लिए जारी योजनाओं को बंद कर दिया गया है। हजारों दलितों के राशनकार्ड रद्द कर दिए गए हैं। जिससे उन्हे आटा दाल योजना का लाभ नहीं मिल रहा है।
श्री राणीके ने कहा कि कांग्रेस सरकार अमृतसर में रामतीर्थ मंदिर के रखरखाव के लिए भी पैसे जारी नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि इस मंदिर के सेवकों को वेतन नहीं दिया जा रहा। पानी की आपूर्ति रुक गयी है। उन्होंने केंद्रीय मेडिकल बीमा स्कीम को पंजाब में लागू करने से इन्कार करने के लिए भी कांग्रेस सरकार की निंदा की। उन्होंने कहा कि गरीबों और निचले वर्गों को इस सुविधा की सख़्त ज़रूरत है।
इसी दौरान श्री राणीके ने ऐदलपुर गाँव में एक रैली को संबोधन किया, जहाँ 70 दलित परिवारों ने आप पार्टी को छोड़कर अकाली में शामिल हो गए। अकाली दल में शामिल होने वाले पूर्व सरपंचों ने कहा कि आप एक पंजाब विरोधी पार्टी साबित हुई है। इन परिवारों ने अकाली दल का डटकर समर्थन करने का भरोसा दिया। लोहिया ब्लाक के चक्क बदाला और अन्य पड़ोसी गाँवों से भी भारी संख्या में दलित परिवार अकाली दल में शामिल हुए।

Share it
Top