पाकिस्तान से टेरर फंडिंग के आरोपितों की जमानत याचिका खारिज़

पाकिस्तान से टेरर फंडिंग के आरोपितों की जमानत याचिका खारिज़


बिलासपुर)। बिलासपुर से पकड़े गए पाकिस्तान के टेरर फंडिंग कर वाले आरोपितों की जमानत याचिका को हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है। इस मामले में सभी चार आरोपियों ने क्रिमिनल अपील के साथ हाईकोर्ट में जमानत याचिका लगाई थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए हाईकोर्ट के जस्टिस प्रशांत कुमार मिश्रा की युगलपीठ ने सभी चार आरोपियों की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है।

दरअसल बिलासपुर शहर की सिविल लाइन पुलिस को 2017 अप्रैल में मुखबिर से सूचना मिली थी कि बिलासपुर के एक निजी हॉस्पिटल में काम करने वाले जांजगीर निवासी धर्मेंद्र यादव और संजय देवांगन के कई बैंक खाते हैं। इसमें लाखों रुपए का ट्रांजेक्शन होता है 2017 अप्रैल में लेकिन राशि दिल्ली और कश्मीर के एटीएम से निकाली जाती है।इस दौरान पता चला कि छत्तीसगढ़ से पाकिस्तान के आतंकवादी के लिए टेरर फंडिंग चल रही है। बाद में जांजगीर-चांपा से अवधेश दुबे, मनिन्द्र यादव, संजय देवांगन को पकड़ा गया। पुलिस को पूछताछ के दौरान पता चला कि संजय देवांगन का पाकिस्तान को भारतीय सेना की गोपनीय जानकारी देने वाले सतविंदर सिंह से संपर्क है। सतविंदर सिंह को जम्मू कश्मीर पुलिस ने गिरफ्तार किया था । जिसे जम्मू कश्मीर से गिरफ्तार किया गया था।इस दौरान पता चला कि छत्तीसगढ़ से पाकिस्तान के आतंकवादी के लिए टेरर फंडिंग चल रही है। बाद में जांजगीर-चांपा से अवधेश दुबे, मनिन्द्र यादव, संजय देवांगन को पकड़ा गया। पुलिस को पूछताछ के दौरान पता चला कि संजय देवांगन का पाकिस्तान को भारतीय सेना की गोपनीय जानकारी देने वाले सतविंदर सिंह से संपर्क है। सतविंदर सिंह को जम्मू कश्मीर पुलिस ने गिरफ्तार किया था। जेल में बंद आरोपित मनींद्र यादव, संजय देवांगन, अवधेश दुबे और सतविंदर सिंह ने हाई कोर्ट में जमानत आवेदन पेश किया था। आवेदन पर जस्टिस प्रशांत कुमार मिश्रा और जस्टिस गौतम चौरडिया की युगल पीठ ने सुनवाई में इन सभी आरोपितों की जमानत आवेदन को खारिज कर दिया गया ।


Share it
Top