मध्यप्रदेश में अंतिम चरण का चुनाव, दोनों दलों के पूर्व अध्यक्षों की प्रतिष्ठा दांव पर

मध्यप्रदेश में अंतिम चरण का चुनाव, दोनों दलों के पूर्व अध्यक्षों की प्रतिष्ठा दांव पर


भोपाल। मध्यप्रदेश में अंतिम चरण के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्षों की प्रतिष्ठा दाव पर लगी है। प्रदेश की खंडवा संसदीय सीट से भाजपा की प्रदेश इकाई के पूर्व अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान और कांग्रेस की प्रदेश इकाई के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव मैदान में हैं। श्री चौहान यहां से पिछला चुनाव भी जीते थे। उन्होंने श्री यादव को ही हराया था।

इस चरण में सबकी नजरें जिस सीट पर टिकीं हैं, वह इंदौर है। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के नाम से पहचान रखने वाली इस सीट पर इस बार भाजपा ने शंकर लालवानी को उतारा है। उनका सामना कांग्रेस के पंकज संघवी से हाे रहा है।

वहीं रतलाम संसदीय क्षेत्र से मौजूदा कांग्रेस सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया की प्रतिष्ठा दांव पर है। उनका सामना भाजपा के गुमान सिंह डामोर से हो रहा है।

मालवांचल की उज्जैन संसदीय सीट से भाजपा के अनिल फिरोजिया कांग्रेस के बाबूराम मालवीय का सामना कर रहे हैं। उज्जैन से सटी देवास सीट पर भाजपा के महेंद्र सोलंकी कांग्रेस के प्रहलाद टिपानिया को चुनौती दे रहे हैं।

मंदसौर संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस की युवा नेत्री मीनाक्षी नटराजन चुनावी मैदान में हैं। वे भाजपा के मौजूदा सांसद सुधीर गुप्ता का सामना कर रही हैं। वहीं धार संसदीय क्षेत्र से भाजपा के छतर सिंह कांग्रेस के दिनेश गिरवाल के सामने हैं।

खरगोन संसदीय क्षेत्र से भाजपा के गजेंद्र पटेल कांग्रेस के डॉ गोविंद मुजाल्दा के सामने चुनावी रण में हैं।

इन सभी सीटों पर अंतिम चरण में 19 मई को मतदान होना है। इनके लिए आज शाम छह बजे चुनाव प्रचार समाप्त हो जाएगा। नतीजे सभी सीटों पर 23 मई को आएंगे।

Share it
Top