मुलायम सिंह की उम्र हो गयी है इसलिए ऐसा बयान दे रहे हैं: तारिक अनवर

मुलायम सिंह की उम्र हो गयी है इसलिए ऐसा बयान दे रहे हैं: तारिक अनवर


कटिहार। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर मुलायम सिंह यादव के बयान को ज्यादा तवज्जो देने की जरूरत नहीं है। उनकी उम्र हो गयी है इसलिए वह इस तरह का बयान दे रहे हैं। ऐसी बातों का चुनाव या उसके नतीजों पर कोई फर्क पड़ने वाला नहीं है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और निवर्तमान सांसद तारिक अनवर ने गुरुवार को कटिहार में प्रेसवार्ता के दौरान यह बातें कही।

उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव महागठबंधन के साथ है। हम सभी मिलकर मजबूती के साथ लोकसभा चुनाव लड़ेंगे। प्रियंका गांधी को राजनीति में सक्रिय रूप से आने को लेकर पूछे गए सवालों पर प्रतिक्रिया देते हुए तारिक अनवर ने कहा कि मैं समझता हूं कि राहुल गांधी अब तक अकेले काम कर रहे थे, लेकिन प्रियंका गांधी के आने से कार्यकर्ताओं से लेकर संगठन तक को ताकत मिलेगी। इस समय कांग्रेस को प्रियंका की जरूरत थी।

13 फरवरी को लोकसभा में पेश किए गए सीएजी की रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए तारिक अनवर ने कहा कि केंद्र सरकार दावा कर रही है कि सीएजी ने राफेल सौदे को लेकर सरकार को क्लीन चिट दे दी है लेकिन यह सच नहीं है। अगर सीएजी के रिपोर्ट को गहराई और विस्तार से देखा जाये तो कई जगह पर इसमें सरकार का तर्क और उसकी मंशा को दर्शाया गया है। तारिक अनवर ने कहा कि हम थोड़ी देर के लिए मान भी लें जैसा कि अरुण जेटली कह रहे हैं कि सर्वोच्च न्यायालय और सीएजी ने राफेल डील को लेकर क्लीन चिट दे दी है तो फिर जेपीसी जांच से सरकार पीछे क्यो भाग रही है? उन्होंने कहा कि बोफोर्स घोटाले का जब मामला सामने आया था, इसी तरह सीएजी ने क्लीन चिट दिया था। लेकिन उस वक्त की विरोधी दल खासकर बीजेपी ने उस सीएजी रिपोर्ट को नकार कर जेपीसी की मांग की थी।

तारिक अनवर ने कहा कि उस समय के प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने विपक्ष के मांग को ध्यान में रखते हुए जीपीसी बनाई थी। उन्होंने कहा कि इतेफाक से मैं भी जेपीसी का सदस्य था। बोफोर्स के लिए जो भी सौदा किया गया था उसकी पूरी छानबीन हुई थी फिर जेपीसी ने भी क्लीन चिट दिया तो आज भी राफेल डील को लेकर विपक्षी दल यही मांग कर रही है। सरकार जांच से पीछे भाग रही है। इससे संदेह हो रहा है कि जरूर कहीं न कहीं इस सौदे में गड़बड़ी हुई है जिस कारण सरकार जेपीसी बनाने से पीछे हट रही है।


Share it
Top