भारत बंद का मप्र में खासा असर, भोपाल सहित कई जिलों में स्कूल कॉलेज सब बंद

भारत बंद का मप्र में खासा असर, भोपाल सहित कई जिलों में स्कूल कॉलेज सब बंद


भोपाल। एट्रोसिटी एक्ट में संशोधन के विरोध में सर्वणों के भारत बंद का मध्य प्रदेश में खासा असर देखने को मिल रहा है। प्रदेश के ग्वालियर, सागर जैसे संवेदनशील संभागों में खासी सर्तकता बरती जा रही है। यहां पर सशस्त्र पुलिस बल की कंपनियां तैनात की गर्ई हैं। जन्माष्टमी के मौके पर भेजी गईं कंपनियों को वहीं रूकने को कहा गया है। राजधानी भोपाल में सीएम हाउस, बीजेपी हाउस,वल्लभ भवन, गृहमंत्री के बंगले की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पूरे प्रदेश को हाई अलर्ट पर रखा गया है।

अजा-जनजा के अप्रैल में हुए भारत बंद के दौरान हुई हिंसा के बाद सरकार कोई भी खतरा मोल नहीें लेना चाहती है, इसलिए वह फूंक फूंक कर कदम रख रही है। प्रदेश भर में पुलिस कंट्रोल रुम से निगाह रखी जा रही है। भोपाल में ही 3000 जवानों की तैनाती की गई है। इंदौर, उज्जैन, मंदसौर, देवास, खंडवा, खरगोन और रतलाम सहित आस-पास के इलाकों में गुरुवार सुबह से ही बंद का असर देखने को मिला। यहां स्कूल-कॉलेजों सहित कई दुकानें भी बंद रहीं।

इंदौर के हरिसिद्धि क्षेत्र में सपाक्स समाज का बैनर लिए लोगों ने एट्रोसिटी एक्ट में संशोधन का विरोध किया। दमोह में बंद का समर्थन करते हुए कारोबारियों ने अपना कारोबार बंद रखा। बंद को देखते हुए शहर में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। ग्वालियर अंचल में बंद का अच्छा खासा असर है। भिंड की सड़कों पर सन्नाटा पसरा है। सड़कों पर जगह-जगह पुलिस तैनात की गई है। यहां पर पुलिस ने एक दिन पहले फ्लैग मार्च भी किया।

सीधी में बाजार बंद है और सड़कों पर आवागमन पर भी काफी असर देखा जा रहा है। बंद को व्यापारियों के समर्थन के चलते मंडियां भी बंद हैं। ज्यादातर स्कूलों में छुट्यिां कर दी गईं हैं। भोपाल सहित ज्यादातर शहरों के सीबीएसई व एमपी बोर्ड के स्कूल बंद हैं। पेट्रोल पम्प संचालक एसोशिएसन ने पेट्रोल पम्प शाम चार बजे तक बंद रखने का फैसला किया है। जबलपुर में बंद का काफी असर देखा जा रहा है। सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है और बाजारों में दुकाने बंद है। यहां पर शाम छह बजे तक इंटरनेट संद कर दी गईं हैं। सोशल मीडिया पर अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए कलेक्टर छवि भारद्वाज ने इसके आदेश दिए हैं।


Share it
Top