पत्नी व बेटी को बेचा, नशे की गोलियां देकर दुष्कर्म : कोर्ट से मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने जांच शुरु की

पत्नी व बेटी को बेचा, नशे की गोलियां देकर दुष्कर्म : कोर्ट से मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने जांच शुरु की


बीकानेर। जिले के नोखा थाना क्षेत्र में शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। एक पिता ने अपनी पत्नी व बेटी को दरिंदों को बेच दिया और दंरिदों ने दरिंदगी की हदें पार करते हुए विवाहिता को नशे की गोलियां देकर पुत्री से बारी-बारी से दुष्कर्म किया और किसी को ना बताने की शर्त पर जान से मारने की धमकी दे डाली। पुलिस ने शनिवार रात्रि मामले में लिप्त सभी आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज जांच शुरू की है।

रिपोर्ट में पीडि़ता के अनुसार उसकी मां व पिता की शादी 10 साल पूर्व टूट चुकी है इस पर पिता ने दूसरा विवाह कर लिया। शादी के टूटने के बाद से मां व पुत्री अपने ननिहाल में रह रही है। 22 जुलाई 2018 को पीडि़ता के पिता व भाई ननिहाल आये और पीडि़ता के मामा को धमकी दी कि हम पुत्री को जबरन उठाकर ले जाएंगे तथा किसी को बेच देंगे और पुत्री व पुत्री की मां का सहयोग किया तो जान से मार देंगे। उसी रात्रि को नौ-दस बजे पुत्री के पिता व भाई बोलेरो गाड़ी में सवार होकर आये और उन सभी ने विवाहिता के मुंह पर कपड़ा रखकर कोई नशीला पदार्थ सूंघा दिया, जिससे मां-पुत्री बेसुध हो गई। मुल्जिमों ने पुत्री व मां को जबरन गाड़ी में डाल लिया और नोखा तहसील के पारवा में स्थित एक मकान में ले गए। वहां पर पिता व भाईयों ने मां व पुत्री को वहां आये तीन लोगों को बेच दिया। आरोपियों ने विवाहिता को एक कमरे में बंद कर दिया और विवाहिता की पुत्री के साथ आरोपियों ने बारी-बारी से दुष्कर्म किया। इसके बाद आरोपियों ने विवाहिता व पुत्री को धमकाया कि अगर तुमने यहां से भागने की कोशिश की तो जान से मारे बिना नहीं छोड़ेंगे। आरोपी वहां पर विवाहिता को नशे की गोलियां देते रहे जिससे विवाहिता हर वक्त बेसुध होकर पड़ी रही और आरोपी पुत्री से घिनौना काम करते रहे। विवाहिता व उसकी पुत्री को आरोपियों ने जान से मारने की धमकी देकर जबरदस्ती खाली कागजातों पर हस्ताक्षर करवा लिये। 6 अगस्त 2018 को देर रात्रि को विवाहिता व पुत्री ने मौका पाकर वहां से भाग निकली और बस पड़कर ननिहाल आ गई।

ननिहाल आते ही अपने साथ हुई पूरी घटना मामा को अवगत करवाई। इस पर विवाहिता के पति ने मामा को धमकी दी कि अगर तुमने किसी ये बात बताई तो जान से मार दिया जाएगा। एफआईआर रिपोर्ट में बताया कि इस मामले को लेकर नोखा पुलिस थाने में लिखित रिपोर्ट दी। लेकिन नोखा पुलिस ने मुल्जिमों के खिलाफ कोई कार्रवाही नहीं की। जिस पर पर परिवादिया ने इस मामले का प्रार्थना पत्र एसपी को भी दिया मगर कोई कार्यवाही नहीं हुई। अंत में परिवादिया ने न्यायालय की शरण ली। न्यायालय ने मामले को गंभीरता से लेते हुए नोखा पुलिस थाने में परिवाद भिजवाया है और आदेश दिया कि मुल्जिमों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच की जाए। नोखा पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ सीआरपीसी 156 (3) जरिये इस्तागासा के तहत धारा 365, 366, 368, 344, 376 डी 506 तहत मामला दर्ज जांच शुरू की।

Share it
Top